rawatनई दिल्ली,   डेढ़ महीने से अधिक की राजनीतिक उठापटक और कानूनी दांव पेंच के बाद उत्तराखंड से आज राष्ट्रपति शासन हटने के बाद हरीश रावत सरकार बहाल हो गयी. इससे जहां कांग्रेस में जश्न का माहौल है वहीं, इसे भाजपा और मोदी सरकार के लिए झटका माना जा रहा है.

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने मंत्रिमंडल की सलाह पर आज रात उत्तराखंड से राष्ट्रपति शासन हटाने से संबंधित कागजात पर हस्ताक्षर कर दिये. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर कल राज्य विधानसभा में कराये गये शक्ति परीक्षण से रावत सरकार की बहाली तय हो गयी थी, लेकिन आज इस पर उस समय मुहर लगी, जब एटार्नी जनरल ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि हरीश रावत ने अपना बहुमत सिद्ध कर दिया है और केंद्र सरकार राज्य से राष्ट्रपति शासन हटाने जा रही है.

इस पर कोर्ट ने केन्द्र सरकार को उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन वापस लेने की मंजूरी दे दी. साथ ही राष्ट्रपति शासन हटाने के आदेश की प्रति अदालत में रखने का निर्देश दिया.
इसके तुरंत बाद मंत्रिमंडल की हुई बैठक में उत्तराखंड से राष्ट्रपति शासन हटाने की सिफारिश करने का फैसला लिया गया.

Related Posts: