nitishपटना,  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार को हर हाल में विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने की एक बार फिर जोरदार तरीके से वकालत की है. एशियन डेवलपमेंट रिसर्च इंस्टीट्यूट के रजत जयंती समारोह पर आयोजित पांच दिवसीय व्याख्यानमाला का उद्घाटन करते हुए रविवार को उन्होंने कहा कि विशेष राज्य का दर्जा मिलने से केंद्रीय करों में छूट मिलेगी और बड़े उद्योग लग सकेंगे.
पैसा, पैकेज या फिर री-पैकेजिंग मिले, यह हमारे लिए बोनस है, लेकिन औद्योगिकीकरण के लिए विशेष राज्य का दर्जा जरूरी है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार जब तक सहयोग नहीं करेगी, बिहार के विकास करने में परेशानी होगी. राज्य में आज औद्योगिक प्रगति हो रही है, लेकिन रफ्तार नहीं है. उसे रफ्तार देने के लिए ही बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने की जरूरत है.

बिहार के साथ न्याय नहीं हुआ: मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में एक माहौल बना है. लोग इसे डेस्टिनेशन के रूप में देख रहे हैं और बिहार में लोगों की दिलचस्पी है. बिहार में बुरा होता है तो उससे लोगों को पीड़ा होती है, लेकिन बुरा से ज्यादा उसकी बुरायी होती है. सीएम ने कहा कि केंद्री की सत्ता में जो भी रहा है. चाहे वह देश की आजादी के पहले या आजादी के बाद हो, बिहार के साथ न्याय नहीं हुआ है.

Related Posts:

गजेन्द्र की आत्महत्या से देश स्तब्ध
मुरारी बापू ने कांग्रेस पर साधा निशाना: मां की याद में आंसू आ गए तो क्या हुआ
संसद का शीतकालीन सत्र २६ नवंबर से, दो दिन होगी विशेष बैठक
माल्या को देश छोड़ने की इजाजत किसने दी : राहुल
उत्तराखंड मामले पर नहीं चल सकी राज्यसभा की कार्यवाही
पूर्व गृह मंत्री शिंदे समेत कई कांग्रेसी नेता रिजर्व बैंक में तालाबंदी कार्यक्रम...