jayalalitha1बेंगलूरू, 11 मई. कर्नाटक उच्च न्यायालय ने आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक की संपत्ति मामले में आज जयललिता को बरी कर दिया जिससे अन्नाद्रमुक प्रमुख को एक बड़ी राहत मिली है. इस फैसले के बाद वह राजनीति में और मुख्यमंत्री पद पर अपनी वापसी कर पाएंगी.

खचाखच भरी अदालत में फैसला सुनाते हुए न्याययमूर्ति सी आर कुमारस्वामी ने अन्नाद्रमुक प्रमुख की करीबी सहयोगी शशिकला नटराजन और उनके रिश्तेदारों जे एलावरासी और जयललिता के अलग हो चुके दत्तक पुत्र वी एन सुधाकरण को भी बरी कर दिया. निचली अदालत की ओर से अपनी दोषसिद्धि को चुनौती देने वाली जयललिता और तीन अन्य की ओर से दायर अपील पर न्यायाधीश ने दिन में 11 बजे अपना फैसला सुनाया. कर्नाटक उच्च न्यायालय का यह फैसला विशेष अदालत के न्यायाधीश जॉन माइकल डी कुन्हा के फैसले के खिलाफ की गयी अपील पर आया है.उच्च न्यायालय से क्लीनचिट मिलने के बाद उम्मीद है कि फोर्ट सेंट जार्ज में पद की फिर से जिम्मेदारी उठाएंगी.

Related Posts: