मानवता शर्मसार

नवभारत न्यूज भोपाल,

एक तरफ सरकार प्रदेश में आनंद विभाग बनाकर आनंद देने का वादा कर रही है, तो दूसरी तरफ शव के लिये वाहन भी नहीं मिल रहा. मानवता को शर्मसार करने वाली यह घटना राजधानी के तहसील मुख्यालय की है.

बैरसिया के वार्ड 12 का निवासी पर्वत मेहर का शव पुलिस को खेल मैदान के पास मिला था. शव को पोस्टमार्टम के लिये अस्पताल भेजना था, लेकिन ऐसा कोई भी वाहन नहीं मिला, जिसमें लाश को ले जाया जा सके.

बाद में पुलिस ने शव के लिये हाथ ठेला मंगवाया और उसे अस्पताल ले गये. उस वक्त शहर के लोग सिर झुकाये ठेले को देखते रहे, जिसके पीछे मृतक की पत्नी और बच्चे बिलख रहे थे. नगर पालिका अध्यक्ष राजमल गुप्ता का कहना है कि उनके पास शव वाहन नहीं है.

दूसरी तरफ थाना प्रभारी एच.सी. लाडिय़ा का कहना है कि तात्कालिक तौर पर जो व्यवस्था हो सकती थी, वह कराई गई.