वॉशिंगटन/नई दिल्ली,

पाकिस्तान में आतंकी सरगना और मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की रिहाई से अमेरिका भड़क गया है.

अमेरिका ने पाकिस्तान की सरकार से कहा कि वह तुरंत यह सुनिश्चित करे कि अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी हाफिज को जल्द फिर गिरफ्तार कर, उसे उसके गुनाहों की सजा दी जाए. हाफिज को पाकिस्तान में शुक्रवार को 10 महीने की नजरबंदी के बाद रिहाई मिल गई है जिसे लेकर भारत ने भी पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई है.

अमेरिकी गृह मंत्रालय के प्रवक्ता हीथर न्यूर्ट ने कहा, अमेरिका इस बात से गहरी चिंता में है कि लश्कर-ए-तैयबा के लीडर हाफिज सईद को पाकिस्तान में नजरबंदी से रिहा कर दिया गया है. हाफिज हजारों मासूमों की मौत के लिए जिम्मेदार है, जिनमें अमेरिकी नागरिक भी शामिल हैं.

लश्कर-ए-तैयबा एक प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन है जो आतंकवादी हमलों के जरिए हाफिज की रिहाई पर आधिकारिक बयान जारी करते हुए न्यूर्ट ने कहा, पाकिस्तानी सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हाफिज को गिरफ्तार किया जाए और गुनाहों के लिए उसे सजा मिले.

गौरतलब है कि मई 2008 में अमेरिका ने हाफिज सईद को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करते हुए उस पर 10 मिलियन डॉलर का ईनाम रखा था.
भारत बोला, हाफिज का वही अजेंडा

इस बीच भारत के विदेश मंत्रालय ने कश्मीर पर दिए हाफिज के बयान को लेकर कहा है कि उसका बयान और कुछ नहीं बल्कि सीमा पार फैले आतंकवादियों का वही अजेंडा है, जिसे वह फिर से दोहराया रहा है.

यह कहते हुए कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और रहेगा, गृह मंत्रालय ने कहा कि आतंकवादियों की ओर से बार-बार इसके जिक्र पर कानून प्रवर्तन एजेंसियों और देश के लोगों द्वारा माकूल जवाब दिया गया है.

बता दें कि अपनी रिहाई के बाद सईद ने कहा, मैं कश्मीरियों के मामले के लिये लड़ता हूं. मैं कश्मीर के मुद्दे के लिये देशभर से लोगों को जुटाऊंगा और हम स्वतंत्रता के लक्ष्य को पाने में कश्मीरियों की मदद करने का प्रयास करेंगे.

इस बारे में पूछे जाने पर गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, मुद्दे पर भारत सरकार का सिद्धांत और तर्कसंगत रुख है कि जम्मू और कश्मीर भारत का अखंड हिस्सा है और रहेगा.

Related Posts: