बोटाद,

पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के नेता हार्दिक पटेल ने कथित तौर पर विभाग के आवंटन को लेकर नाराज गुजरात के उपमुख्यमंत्री तथा वरिष्ठ पाटीदार नेता नीतिन पटेल को सत्तारूढ भाजपा से नाता तोड़ने पर उन्हें कांग्रेस में सम्मानीय पद दिलाने का ऑफर दिया है।

उन्होंने यह भी कहा कि उन्हाेंने श्री पटेल को कल शाम एक एसएमएस संदेश भी भेजा था जिसमें यह कहा था कि वह उनके साथ खड़े हैं। हालांकि इसका कोई जवाब नहीं आया है और संभवत: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के डर से वह जवाब भी नहीं देंगे।

विधानसभा चुनाव में भाजपा का खुलेआम विरोध कर चुके हार्दिक ने आज बोटाद में चुनाव परिणामों को लेकर पास के चिंतन शिविर से पहले पत्रकारों से कहा कि नीतिनभाई भाजपा में अपमान के बाद अगर हमारे साथ जुड़ जायें तो साथ मिल कर गुजरात में सुशासन की लड़ाई लड़ी जायेगी। वह 10 विधायकों के साथ लेकर भाजपा से इस्तीफा दे दें तो कांग्रेस में उन्हें योग्य स्थान दिलायेंगे।

नीतिनभाई ने भाजपा को गुजरात में मजबूत बनाने में 30 साल तक कड़ी मेहनत की है और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की ‘दादागिरी’ के चलते उनका अपमान किया गया है।

इसी वजह से वडोदरा से किसी भाजपा नेता को मंत्री नहीं बनाया गया है जबकि सूरत जिसने भाजपा की लाज बचायी है को भी केवल एक ही राज्य मंत्री मिला है। अगर नीतिनभाई तैयार हो कि भाजपा छोडना है तो हम उनका पूरा साथ देंगे मै सामने से कांग्रेस से बात कर उन्हें योग्य स्थान दिलाऊंगा।

ज्ञातव्य है कि भाजपा को इस बार केवल 99 सीटें मिली हैं जो बहुमत के लिए जरूरी 92 से मात्र सात ही अधिक है। दो दिन पहले विभागों के बंटवारे के बावजूद श्री पटेल ने अब तक पदभार नहीं संभाला है। वह सरकारी गाड़ी का भी इस्तेमाल नहीं कर रहे।

उन्हें मनाने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता भी जुटे हैं। श्री पटेल से वित्त, नगर विकास और नगरीय आवास तथा पेट्रोरसायन जैसे महत्वपूर्ण विभाग ले लिये गये हैं।

Related Posts:

फूटी आंख नहीं सुहाती थी प्रियंका
राष्ट्रपति भवन ने ट्विट पर जताई आपत्ति, दर्ज कराई ललित पर एफआईआर
फिर झूठा निकला नवाज का वादा: लखवी का वाइस सैंपल नहीं देगा पाक
ललित मोदी के लिए कोई सिफारिश नहीं की थी
जस्टिस ठाकुर ने ली सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ
बीएचयू में बवाल-आगजनी से तनाव, विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस तैनात