rahul

नयी दिल्ली,  नोटबंदी के खिलाफ आक्रोश दिवस मना रहे विपक्षी दलों के सदस्यों ने आज यहा संसद भवन परिसर में एकजुट होकर जमकर नारेबाजी की और प्रदर्शन किया।

लोकसभा की कार्यवाही प्रश्नकाल के दौरान जैसे ही स्थगित हुई तो विपक्षी दलों के सदस्य एकत्रित होकर सदन के बाहर निकले और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष पहुंच गए जहां कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में इन सदस्यों ने नारे लिखे कागज हाथ में लेकर नोटबंदी करने के मोदी सरकार के फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

प्रदर्शनकारी सांसद करीब 15 मिनट तक “मोदी तुम्हारी मन की बात, गरीबों के पेट पर लात, जनता का पैसा जनता को दो, किसान का पैसा किसान को दो, मजदूर का पैसा मजदूर को दो” जैसे नारे लगा रहे थे। विपक्षी दलों के भारत बंद और राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शनों के बीच संसद परिसर में हुए इस प्रदर्शन में कांग्रेस के साथ ही छह विपक्षी दलों ने हिस्सा लिया।

प्रदर्शन में श्री गांधी के अलावा लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडगे, ज्याेतिरादित्य सिंधिया, अहमद पटेल, शशि थरूर तथा कई सदस्यों के साथ ही मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के मोहम्मद सलीम, द्रविड मुनेत्र की कनिमौजी तथा तिरुचि शिवा, राष्ट्रीय जनता दल के जयप्रकाश नारायण यादव एवं अन्य सदस्य शामिल थे लेकिन प्रदर्शन में तृणमूल कांग्रेस और जनता दल यू के सदस्यों ने हिस्सा नहीं लिया।

प्रदर्शन में शामिल श्री खडगे ने पत्रकारों से कहा कि जब तक जनता की समस्याएं दूर नहीं होती हैं विपक्षी दलों का विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा और लोकसभा में काम रोकाे प्रस्ताव की मांग भी उठाते रहेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सदन में आना होगा और विपक्ष के सवालों का जवाब देना होगा। श्री सलीम ने तृणमूल कांग्रेस तथा जनता दल की अनुपस्थिति पर कहा कि हर पार्टी को अपने अपने ढंग से विरोध प्रदर्शन करने का निर्णय लेने का अधिकार है।

Related Posts: