modi1नयी दिल्ली,  भारत और इजरायल ने आंतकवाद के खिलाफ और रक्षा के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए आज कहा कि इससे वैश्विक स्तर पर शांति, स्थायित्व और लोकतंत्र की आवाज को मजबूती मिलेगी.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां इजरायल के राष्ट्रपति रियूवेन रिवलिन के साथ द्विपक्षीय बैठक के बाद मीडिया के समक्ष जारी बयान में विश्व समुदाय का आह्वान करते हुए कहा कि आतंकवाद आज दुनिया के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती है.

इस चुनौती के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने और चुप रहने से आतंकवादियों के हौसले बढ़ेंगे, ऐसे में इस चुनौती का डटकर मुकाबला करने के लिए भारत और इजरायल ने आपसी सहयोग बढ़ाने तथा रक्षा के क्षेत्र में अपने संबंधों को विस्तार देने का फैसला किया है.

मोदी और रिवलिन के बीच शिष्टमंडल स्तर की वार्ता के बाद भारत और इजरायल के बीच जल संसाधन विकास और कृषि के क्षेत्र में दो अहम समझौतों पर हस्ताक्षर भी किए गए. प्रधानमंत्री ने रिवलिन की भारत यात्रा को दोनों देशों के बीच संबंधों को प्रगाढ़ बनाने में काफी फायदेमंद बताते हुए कहा कि इजरायल के साथ भारत की ढाई दशक पुरानी मित्रता का दोनों देशों को भरपूर फायदा मिला है.

Related Posts: