global_summitइंदौर, सतत प्रयासों के फलस्वरूप मध्यप्रदेश आज निवेश के लिये मध्यप्रदेश सबसे अधिक पसंदीदा राज्य बन गया है. मध्यप्रदेश में बेहतर नेतृत्व और जनकेन्द्रित नीतियों से विकास हुआ है.

प्रदेश की विकास दर लगातार 10 प्रतिशत से अधिक रही है. यह बात केन्द्रीय विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज ने कही. वे ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2016 के समापन समारोह को संबोधित कर रही थी. ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2016 का इंदौर के ब्रिलिएंड कन्वेंशन सेंटर में समापन हुआ.

दो दिवसीय इस समिट में मध्यप्रदेश सरकार को 5 लाख 62 हजार 847 करोड़ रूपये के 2630 इन्टेंशन टू इन्वेस्ट यानि निवेश के इरादे मिले हैं. समिट में इस बार 5 देश भी पार्टनर बने और 42 देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया. श्रीमती स्वराज ने आगे कहा कि  भारत को 21वीं सदी की चुनौतियों का सामना करने के लिये मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, क्लीन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, स्टेण्डअप इंडिया और स्मार्ट सिटी जैसे कार्यक्रम शुरू किये गये हैं.

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इस समिट में 30 प्रस्ताव ऑनलाइन मिले और उन्हें जल्दी ही जमीन मिल जायेगी. उन्होंने बताया कि 2630 निवेशकों ने पांच लाख 62 हजार 847 करोड रूपये मूल्य के प्रस्ताव दिये हैं. केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने 20 हजार करोड रूपये के निवेश के एमओयू किये हैं.

Related Posts: