parliamentनयी दिल्ली,  नोटबंदी को लेकर आमजन को हो रही परेशानी का आरोप लगाते हुए लोकसभा में विपक्षी सदस्यों ने आज लगातार नौवें दिन भी भारी हंगामा किया, जिसके कारण अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को सदन की कार्यवाही तीसरी बार अपराह्न दो बजे तक स्थगित करनी पड़ी।

दो बार के स्थगन के बाद सदन की कार्यवाही जब 12 बजे स्थगित हुई तो विपक्षी सदस्यों ने फिर से हंगामा शुरू कर दिया। अध्यक्ष ने शोर-शराबे के बीच ही जरूरी कागजात सदन पटल पर रखवाये।

इसके बाद उन्होंने शून्यकाल प्रारम्भ कर दिया। हंगामे के बीच ही एक सदस्य ने अपनी बात रखी, लेकिन शोर-शराबे में उनकी बातें दब गयी। अंतत: अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही अपराह्न दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले सदन की कार्यवाही पहली बार साढ़े 11 बजे और दूसरी बार 12 बजे तक के लिए स्थगित करनी पड़ी थी। सुबह 11 बजे सदन की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई सदन में कांग्रेस के नेता मल्लकार्जुन खड़गे ने अघोषित आय के खुलासे के लिए लाये गये नये आयकर संशोधन विधेयक पर चर्चा की मांग की, जिसे अध्यक्ष ने यह कहते हुए अस्वीकार कर दिया कि इस मामले पर विपक्षी सदस्य शून्यकाल में अपनी राय रख सकते हैं।

इस बीच कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, वाम दल, जनता दल-यू, राष्ट्रीय जनता दल, समाजवादी पार्टी सहित विपक्षी दलों के सदस्य “मोदी तुम्हारी मन की बात, गरीबों के पेट पर लात, जनता का पैसा जनता को दो, किसान का पैसा किसान को दो, मजदूर का पैसा मजदूर को दो” जैसे नारे लगाते हुए अध्यक्ष के आसन के समीप पहुंच गए। इस हंगामे के बीच कुछ देर के लिए प्रश्नकाल हुआ, लेकिन शोर शराबे के बीच कुछ भी स्पष्ट नहीं सुना जा सका।

श्रीमती महाजन ने सदस्यों से शांति बनाए रखने की अपील भी की, लेकिन सदस्यों ने हंगामा जारी रखा, जिससे अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही पहले 11:30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। दोबारा कार्यवाही शुरू होने पर भी सदस्य शोर-शराबा करते रहे जिसके कारण सदन की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित करनी पड़ी।

Related Posts: