bankनयी दिल्ली,  पांच सौ और एक हजार रुपये के बंद नोटों को जमा करवाने के लिए बैंकों के आज खुलने से पहले ही लंबी-लंबी कतारें लग गयी। केंद्र सरकार ने आठ नवंबर की मध्य रात्रि से पांच सौ और एक हजार रुपये के नोटों को बंद करने का फैसला किया था और इन नोटों को बदलवाने के लिए कई प्रकार के कदमों की घोषणा की थी जिससे लोगों को असुविधा का सामना न करना पड़े।

सरकार एक हजार रुपये का नोट फिलहाल पूरी तरह बंद कर रही है जबकि पांच सौ का नया नोट प्रचलन में आयेगा और दो हजार रुपये का नोट भी पहली बार शुरू किया जा रहा है। सरकार ने रोजाना चार हजार रुपये तक बैंकों में पांच सौ और एक हजार रुपये के नोट जमा कराने की सुविधा दी है। यह सुविधा 30 दिसंबर तक जारी रहेगी। इसके लिए लोगों को अपनी पहचान के रूप में आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, मतदाता पहचान पत्र अथवा कोई और सरकारी साक्ष्य प्रमाण के रूप में देना होगा।

यमुना पार के प्रीत विहार, स्वास्थ्य विहार और अन्य स्थानों पर अन्य बैंकों की तुलना में भारतीय स्टेट बैंक की शाखाओं पर अधिक लंबी लाइनें देखी गयी। डाकघरों पर भी लोग खुलने से घंटों पहले जमा हो गये। नोटों को बंद करने की घोषणा के बाद नौ नवंबर को बैंक बंद रखे गये थे। लोगों की सुविधा के लिए 12 और 13 नवंबर शनिवार और रविवार को भी बैंक खुले रहेंगे। आमतौर पर दूसरे शनिवार और रविवार को बैंकों का अवकाश रहता है।

Related Posts: