secretriateनयी दिल्ली,  भारत ने पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग के कर्मचारी सुरजीत सिंह को बिना ठोस कारण के निष्कासित किये जाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए पाकिस्तान की आज कड़ी निंदा की और कहा कि यह महमूद अख्तर के निष्कासन पर केवल बदले की भावना से की गयी कार्रवाई है।

विदेश मंत्रालय की आज यहां जारी विज्ञप्ति में कहा कि पाकिस्तान सरकार का भारतीय उच्चायोग में सहायक कार्मिक एवं कल्याण अधिकारी सुरजीत सिंह को अवांछित व्यक्ति करार देने और उन्हें परिवार सहित देश से निष्कासित करने का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है। पाकिस्तान सरकार ने उनके खिलाफ निराधार और खोखले आराेप लगाने के अलावा कोई ठोस साक्ष्य एवं न्यायोचित साक्ष्य पेश नहीं किये हैं जिनसे साबित हो सके कि वह राजनयिक आचार के विरुद्ध आचरण कर रहे थे।

विज्ञप्ति में कहा गया कि सरकार पाकिस्तान के इस कदम की निंदा करती है। उसने यह कदम कल यहां पाकिस्तानी उच्चायोग के अधिकारी महमूद अख्तर को भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त रहने के लिये रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद जानबूझ कर प्रतिशोध स्वरूप उठाया है। पाकिस्तान का यह कदम फिर इस बात की पुष्टि करता है कि वह सीमा पार आतंकवाद सहित अपनी भारत विरोधी गतिविधियों को स्वीकार करने कोे तैयार नहीं है।

भारत ने बुधवार को पाकिस्तानी उच्चायोग में तैनात उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई के एक अधिकारी को दो भारतीय जासूसों के साथ संवेदनशील रक्षा दस्तावेज़ों के साथ पकड़ा था और कल उसे निष्कासित करने का फरमान सुनाया था। पाकिस्तान सरकार ने इस पर जवाबी कदम उठाते हुए कल देर रात श्री सुरजीत सिंह को निष्कासित करने का ऐलान कर दिया।

Related Posts: