bittaभोपाल,  ऑल इंडिया एंटी टेरेरिस्ट फ्रंट के अध्यक्ष मनिंदर जीत बिट्टा ने हाल ही में भोपाल में सिमी आतंकवादियों के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के बयान को लेकर उन पर हमला बोलते हुए आज कहा कि दिग्विजय ‘पॉलिटिकल टेरेरिज्म’ फैला रहे हैं और वे स्वयं भी एक समय इसका शिकार हो चुके हैं।

मुठभेड़ पर चहुंओर हो रही राजनीति के बीच यहां आए श्री बिट्टा ने संवाददाताओं से चर्चा में कहा – मुठभेड़ में जो मारे गए, सबने माना है कि वे सब आतंकवादी थे। उनके मारे जाने के बाद कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंह, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की ओर से इस बारे में बयान अाए, पर तीनों के बयानों में फर्क था।

दिग्विजय सिंह को क्या गारंटी थी कि वे अातंकवादी अगर वहां से भाग जाते तो किसी का बुरा नहीं करते, दिग्विजय पॉलिटिकल टेरेरिज्म फैला रहे हैं। –
स्वयं को कांग्रेसी और कांग्रेस को अपनी मां बताते हुए श्री बिट्टा ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी बुरे नहीं हैं, लेकिन दिग्विजय सिंह हमेशा आतंकवादियों के साथ खड़े होते हैं। उन्होंने कांग्रेस के कपिल सिब्बल, पी चिदंबरम और आनंद शर्मा जैसे नेताओं पर भी सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि हर ऐसे मौकों पर सुरक्षा बलों के साथ कौन खड़ा होता है।

सिमी आतंकवादियों के हाथों मारे गए जेल विभाग के प्रधान आरक्षक रमाशंकर यादव का जिक्र करते हुए श्री बिट्टा ने कहा कि स्वर्गीय यादव भारतीय जनता पार्टी या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े नहीं थे, वे सिर्फ भारतीय थे, लेकिन उनके अंतिम संस्कार में कांग्रेस की ओर से कोई नहीं गया।

उन्होंने मध्यप्रदेश पुलिस की प्रशंसा करते हुए कहा कि अगर पुलिस ये कदम नहीं उठाती तो देश के ना जाने कितने हिस्से असुरक्षित हो जाते। उन्होंने कहा कि जांच सिर्फ इस बात की होनी चाहिए कि वे जेल से कैसे भाग निकले।

Related Posts: