modiगाजीपुर,  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि सीमापार से फर्जी नोटों के आ रहे जखीरे और बढते भ्रष्टाचार पर लगाम के लिए पांच सौ और एक हजार के नोटों को बन्द करने का फैसला लेना जरुरी हो गया था। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की चल रही परिवर्तन यात्रा में यहां आयोजित सभा में श्री मोदी ने पांच सौ और एक हजार के नोटों को बन्द करने के उनके फैसले का विरोध कर रहे नेताओं पर करारा हमला बोला।

प्रधानमंत्री ने नोटबन्दी के उनके फैसले का विरोध कर रहे नेताओं से सवाल किया कि आतंकवाद, नक्सलवाद और उग्रवाद के खिलाफ लडने के लिए जाली नोटों का खात्मा होना चाहिए या नहीं। देश के लिए विकट समस्या बने आतंकवाद को समाप्त करने के लिए एक हजार और पांच सौ के नोट को बंद नहीं करता तो क्या करता। उन्होंने फैसले का विरोध कर रही कांग्रेस को भी कठघरे में खडा किया और कहा कि श्रीमती इन्दिरा गांधी ने अपनी कुर्सी बचाने के लिए आपातकाल लगाकर पूरे देश को जेलखाना बना दिया था।

Related Posts: