rupeeनयी दिल्ली,  सरकार ने अब चलन से बाहर किए जा चुके 1000 और 500 रुपये के पुराने नोटों से पेट्रोल पंपों, सरकारी सेवाओं के बिल भुगतानों, कर और शुल्कों की अदायगी की समयावधि को 24 नवंबर तक के लिए बढ़ा दिया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आवास पर कल रात हुयी एक उच्च स्तरीय बैठक में 500 और एक हजार रुपये के प्रचलन से हटाये गये नोटों से उपजी स्थिति की समीक्षा के दौरान यह निर्णय लिया गया। इस बैठक में श्री मोदी के अलावा वित्त मंत्री अरुण जेटली, गृह मंत्री राजनाथ सिंह एवं ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल के साथ ही कई और प्रमुख मंत्री एवं वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

नकदी पाने और पुराने नोटों के बदले नए नोटों के लिए बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी-लंबी कतारें लगने के बीच सरकार ने इस राहत की घोषणा की है। आठ नवंबर की रात को 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को अमान्य करार दिए जाने के बाद सरकार ने सरकारी अस्पतालों, रेलवे टिकट बुकिंग केंद्रों, सार्वजनिक परिवहन, हवाईअड्डों पर टिकट बुकिंग, दूध केंद्रों, श्मशान या कब्रिस्तानों और पेट्रोल पंपों पर इनके परिचालन को 72 घंटों की अनुमति दी थी।

बाद में इस सूची में मेट्रो रेल टिकटों, राजमार्गों और सड़क टोल, डॉक्टर के पर्चे पर सरकारी और निजी दुकानों से दवा खरीद, एलपीजी गैस सिलेंडरों की बुकिंग, रेलवे कैटरिंग, बिजली और पानी के बिलों का भुगतान एवं भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के स्मारकों में प्रवेश टिकट को भी जोड़ दिया गया था।

आर्थिक मामलो के सचिव शक्तिकांत दास के मुताबिक इन सभी के लिए बढ़ायी गई अतिरिक्त 72 घंटों की समय सीमा आज रात को खत्म हो रही है लेकिन बैंकों को अभी भी नकदी प्रवाह को सामान्य करने में पेश आ रही दिक्कतों को देखते हुए सरकार ने इस समयसीमा को 24 नवंबर तक के लिए बढ़ा दिया है।

पुराने नोटों के माध्यम से केंद्रीय भंडारों जैसे सहकारी ग्राहक बिक्री केंद्रों और अदालती शुल्क का मान्य पहचान पत्र के साथ भुगतान किया जा सकता है।

सरकारी सेवाओं के केवल पुराने बिल या मौजूदा बिल का भुगतान केवल व्यक्ति या घरों के हिसाब से ही पुराने नोटों के माध्यम से किया जा सकता है। किसी तरह के अग्रिम भुगतान की अनुमति नहीं है।

Related Posts: