shivrajभोपाल,  मध्यप्रदेश में राज्य मंत्रिपरिषद ने आज यहां राहत वितरण संबंधी राजस्व पुस्तक परिपत्र के खंड 6 के क्रमांक 4 के मानदंड में वृद्धि को मंजूरी प्रदान कर दी। ऐसा करने से विभिन्न विपदाओं से प्रभावित लोगों की राहत राशि में बढोत्तरी होगी।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार इसके चलते अब ऐसे छोटे दुकानदारों, जिनकी दुकानें अग्नि दुर्घटना, अति वर्षा या बाढ़ के कारण नष्ट हो जाती हैं और उसकी दुकान का बीमा नहीं हो तथा दुकानदार के पास दुकान नष्ट हो जाने पर जीविकोपार्जन के अन्य सभी साधनों से वार्षिक आय एक लाख रुपए तक हो, तो दी जाने वाली सहायता में प्रति दुकानदार 12 हजार रुपए तक की वृद्धि की गयी है। पहले इसमें वार्षिक आय 35 हजार होने पर सहायता राशि 6 हजार रुपए दी जाती थी।

सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुयी मंत्रिपरिषद की बैठक में अन्य महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए गए। सर्प, गुहेरा या जहरीले जंतु के काटने से अथवा बस या अन्य अधिकृत पब्लिक ट्रांसपोर्ट के नदी में गिरने या पहाड़ी आदि से खड्डे में गिरने से इन वाहन पर सवार व्यक्तियों की मृत्यु होने पर मृत व्यक्ति के परिजन को दी जाने वाली सहायता 50 हजार से बढ़ाकर अब 4 लाख रुपये तक की गयी है।

सूत्रों ने बताया कि पानी में डूबने अथवा नाव दुर्घटना होने से मृत व्यक्ति के परिजन को एक लाख के स्थान पर अब 4 लाख तक की सहायता दी जायेगी। प्राकृतिक प्रकोप से निजी कुएं या नलकूप आदि टूट-फूट या धंस जाने पर उसके मालिक को हानि के आकलन के आधार पर 6,000 के स्थान पर अब 25 हजार रुपए तक की सहायता दी जायेगी। आग अथवा अन्य प्राकृतिक आपदा से कृषक की बैलगाड़ी अथवा कृषि उपकरण नष्ट हो जाने पर 4,000 के स्थान पर अब 10 हजार रुपए तक की सहायता दी जायेगी।

Related Posts: