modi_abeटोक्यो/कोबे,  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके जापानी समकक्ष शिंजो आबे ने आज यहां टोक्यो से ह्योगो प्रीफैक्चर स्थित कोबे तक विश्वप्रसिद्ध शिनकानसेन बुलेट ट्रेन में यात्रा की और कोबे में कावासाकी के बुलेट ट्रेन कारखाने का दौरा किया। तीन दिन की जापान यात्रा के अंतिम दिन श्री मोदी आज सुबह टोक्यो के रेलवे स्टेशन पहुंचे जहां जापान के प्रधानमंत्री श्री आबे उनकी प्रतीक्षा कर रहे थे।

बाद में दोनों नेता वहां से शिनकानसेन हाईस्पीड ट्रेन में सवार हुए अौर ट्रेन दोपहर में शिन कोबे स्टेशन पर पहुँची। इस मौके पर वहां मौजूद प्रवासी भारतीयों ने भारत माता की जय और वंदे मातरम के उद्घोष के साथ श्री मोदी का अभिनंदन किया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने एक ट्वीट में दोनों नेताओं की बुलेट ट्रेन के भीतर की एक तस्वीर साझा करते हुए कहा, “अद्भुत रेल यात्रा के दौरान दोनों नेताओं के बीच अद्भुत मित्रता।

प्रधानमंत्री मोदी और श्री आबे कोबे में शिनकानसेन बुलेट ट्रेन में।” श्री मोदी श्री आबे के साथ ट्रेन में ड्राइवर केबिन में भी गये और ड्राइवर की सीट पर सवार हो कर ट्रेन चलाने के गुर सीखे। श्री आबे ने भी इस सवारी का खूब आनंद लिया। यह गाड़ी जिस रास्ते से गुजरती है उस मार्ग पर विश्व प्रसिद्ध माउंट फूजी भी पड़ता है। श्री माेदी ने ट्रेन की खिड़की से माउंट फूजी को निहारा।

शिनकानसेन हाईस्पीड ट्रेन 240 किलोमीटर प्रतिघंटा से लेकर 320 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार पर चलती है। लगभग सवा पांच सौ किलोमीटर की दूरी तय करने में ढाई घंटे से कुछ अधिक समय लगा। दोनों स्टेशनों के बीच यात्रा के लिये एक वयस्क यात्री का किराया करीब साढ़े 12 हजार रुपये है।

भारत ने मुंबई से अहमदाबाद के बीच शिनकानसेन बुलेट ट्रेन चलाने का जापान के साथ करार किया है। करीब एक लाख करोड़ रुपये की इस महत्वाकांक्षी परियोजना में जापान ही निवेश कर रहा है। इस परियोजना पर 2018 में निर्माण शुरू हो जायेगा और 2023 तक भारत की पहली बुलेट ट्रेन चलने लगेगी। जापानी प्रधानमंत्री का कहना है कि मुंबई अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना भारत एवं जापान के विशेष संबंधों में एक नया आयाम है। श्री मोदी ने कोबे स्टेशन पर यात्रा पूरी करने के बाद कहा, “हम इस ट्रेन का भारत में इंतज़ार कर रहे हैं।”

कोबे स्टेशन से दोनों नेता ह्योगी हाउस गये। वहां दोनों प्रधानमंत्रियों की मौजूदगी में गुजरात राज्य एवं ह्योगी प्रीफैक्चर के बीच विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग के समझौते पर हस्ताक्षर किये गये। श्री मोदी ने इस मौके पर अपने संक्षिप्त संबोधन में भारत के लघु मध्यम एवं सूक्ष्म उद्यमों तथ ह्योगी प्रांत के उद्योगों के बीच सहयोग बढ़ने की उम्मीद जतायी।

बाद में श्री मोदी और श्री आबे ने कावासाकी हैवी इंडस्ट्रीज़ के बुलेट ट्रेन संयंत्र का दौरा किया। बुलेट ट्रेन संयंत्र के अधिकारियों ने श्री माेदी को संयंत्र का दौरा कराया और ट्रेन बनाने की प्रक्रिया से अवगत कराया। श्री मोदी ने वहां के अधिकारियों एवं इंजीनियरों के साथ तस्वीरें भी खिंचवायी।

Related Posts: