srinagarश्रीनगर,  जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में अलगाववादियों की ‘जामिया मस्जिद चलो’ रैली को विफल करने के लिए बटमालू के अलावा शहर-ए-खास और पुराने इलाके में आज फिर से कर्फ्यू लगा दिया गया। जामिया मस्जिद की ओर जाने वाली सभी सड़कों को बंद कर दिया गया है ताकि वहां लोग एकत्र नहीं हो सकें। पाबंदियों के कारण मस्जिद में गत 15 सप्ताह से जुमे की नमाज नहीं अदा की जा सकी है।

शहर-ए-खास और पुराने इलाके के पांच पुलिस थानों के अंतर्गत आने वाले क्षेत्रों के अलावा बटमालू में कर्फ्यू लागू होने की औपचारिक सूचना आज सुबह में दी गई। अनंतनाग के कोकरनाग में गत आठ जुलाई को हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी समेत तीन आतंकवादियों के मुठभेड़ में मारे जाने के अगले दिन से हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों धड़े और जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) आंदोलन को हवा दे रहे हैं।

इन संगठनों ने हड़ताल की अवधि तीन नवंबर तक के लिए बढ़ा दी है। अलगाववादियों ने लोगों से मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए ‘घेराबंदी’ को तोड़ने के वास्ते आज जामिया मस्जिद की ओर मार्च करने की अपील की है। हालांकि उदारवादी एचसी के अध्यक्ष मीरवाइज मौलवी उमर फारूक के मजबूत गढ़ माने जाने वाले इलाके में स्थित इस मस्जिद का मुख्य द्वार बंद है और इसके आस-पास तथा जामिया मार्केट इलाके में बुलेट प्रूफ जैकेट पहने और स्वचालित हथियारों के साथ बड़ी संख़्या में सुरक्षा बल के जवान तैनात हैं।

Related Posts: