बॉलीवुड सितारे शरमन जोशी की बतौर सोलो हीरो पहली फिल्म फेरारी की सवारी प्रदर्शन के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि वह फिल्मोद्योग में किसी के सामने कुछ साबित नहीं करना चाहते लेकिन कम से कम 10 अच्छी फिल्मों का हिस्सा बनना चाहते हैं.

शरमन ने एक इंटरव्यू में कहा कि वे यहां खुद के सिवा अन्य किसी के सामने कुछ साबित करने के लिए नहीं हैं. वे बस महान सिनेमा का हिस्सा बनना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि वे एक अभिनेता के रूप में अपने करियर में कम से कम 10 अच्छी फिल्मों का हिस्सा बनना चाहते हैं. उन्हें लगता है कि फेरारी की सवारी इनमें से एक फिल्म होगी. पूर्व में गोलमाल व 3 इडियट्स जैसी सफलतम फिल्मों में काम कर चुके शरमन की यह सोलो हीरो वाली पहली फिल्म होगी. उन्होंने कहा कि वे यहां लम्बे समय के लिए हैं, कम अवधि के लिए नहीं. आप उनके फिल्मोद्योग में कम से कम 30-40 साल ठहरने की तो उम्मीद कर ही सकते हैं. हो सकता है कि वे इससे ज्यादा काम करें. अगले 30-40 साल में आप उन्हें देख-देखकर थक जाएंगे.

उन्होंने कहा कि इन दिनों फिल्मकार बहुत से प्रयोग कर रहे हैं लेकिन दर्शक बहुत होशियार हैं. शरमन ने कहा कि आज के दर्शक बहुत बुद्धिमान और चतुर हैं. वे टीवी पर फिल्म के प्रमोशन दृश्य देखकर ही समझ जाते हैं कि उन्हें देखने के लिए क्या मिलने वाला है.
उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि दर्शक बहुत परिपक्व हैं. यदि आपने किसी भी शैली की फिल्म समर्पण, प्यार व विश्वास के साथ बनाई हो तो वे आपको प्यार व सम्मान देने के लिए तैयार रहते हैं. यदि कोई फिल्म असफल रहती है तो इसकी वजह दर्शक नहीं होते बल्कि कथानक की कमजोरी के चलते ऐसा होता है. फेरारी की सवारी का निर्देशन नवोदित निर्देशक राजेश मापुस्कर ने किया है. यह फिल्म एक पिता के अपने बच्चे की इच्छा पूरी करने के निश्चय की कहानी है. फिल्म में बोमन ईरानी ने भी अभिनय किया है.

Related Posts: