शहर में धूमधाम से मना रामनवमी पर्व, हुए कई धार्मिक आयोजन

नवभारत न्यूज भोपाल,

रवि योग और आर्द्रा नक्षत्र में आई रामनवमी आज शहर में धूमधाम से मनाई गई. घड़ी का काटा जैसे ही दोपहर 12 बजे पर पहुंचा कि शहर के सभी मंदिरों में एक साथ भये प्रकट कृपाला दीनदयाल… के साथ भगवान श्रीराम जन्मोत्सव की महाआरती की गंूज से आस-पास का वातावरण भक्तिमय हो गया. शहर में मुख्य समारोह स्थानीय गुरुबख्श की तलैया स्थित श्रीराम मंदिर में हुआ.

शहर में रामनवमी पर सुबह से ही अनेक धार्मिक आयोजन शुरू हुए. गुरूख्श की तलैया में सुबह से सुंदरकांड पाठ श्रीराम विग्रह पाठ,का आयोजन किया गया.इसके उपरांत भगवान श्रीराम का पंचामृत स्नान हुआ. इसके बाद दोपहर के 12 बजे ही यहां भगवान श्रीराम की महाआती की गई.

जनोत्सव महाआरती में पूर्व मंत्री बाबूलाल गौर, भाजपा विधायक सुरेन्द्रनाथ सिंह, मंदिर ट्रस्ट्र के अध्यक्ष विश्वामित्र शर्मा, महामंत्री पं.ओम मेहता, बीडीए अध्यक्ष ओमयादव, पं.संजीवन दुबे, ओपी छाबड़ा, सुखदेव शर्मा, दिलीप खण्डेलवाल, राममोहन चौकसे, प्रेमनारायण प्रेमी सहित सैकड़ों नागरिकगण शामिल थे. इस मौके पर यहां श्रीराम जन्मोत्सव पर श्रीमती करूणा चौहान ने बधाई गीतों की भी मनभावन प्रस्तुतियां दी.

तुलसी मान प्रतिष्ठान

इसके अलावा तुलसी मानस प्रतिष्ठान में रामनवमी महोत्सव शुरू हुआ जो 2 अप्रैल तक चलेगा। यहां सुबह से अखंड पाठ का शुभारंभ हुआ। सर्वधर्म मंदिर भारद्वाज आश्रम परिसर में श्रीराम शक्ति महायज्ञ का आयोजन किया जा रहा है.

कुराना में श्रीराम जन्मोत्सव

संत नगर में ग्राम कुराना स्थित श्रीराम मंदिर में आज महाआरती का आयोजन किया गया. जिसमें गांव के प्रतिष्ठत लोगों ने हिस्सा लिया.

इस मौके पर पं. संतोष पाराशर शास्त्री द्वारा भगवान श्रीराम की पूजा अर्चना कर भगवान श्रीराम माता सीता व लक्ष्मण पंचामृत स्नान कर वस्त्र पहनाएं उसके उपरांत भगवान श्रीराम की जन्मोत्सव की महाआरती कर गई. कार्यक्रम में केदार सिंह मंडलोई, आकाश जागीरदार,राहुल मंडलोई, सुमेर सिंह,सुनील मेवाड़ा सहित अनेक नागरिकगण मौजूद थे. यहां शाम को भी भजन कीर्तन हुए.

निकली शोभायात्रा

संत हिरदाराम नगर .खजूरी में राम नवमी के अवसर पर शोभा यात्रा का आयोजन किया गया. खेड़ापति हनुमान मंदिर से शुरू होकर गांव का भ्रम्रण करते हुए राम मंदिर पहुंची. शोभायात्रा के लिए तिरंगे की थीम पर श्रीराम की झांकी बनाई गई. शोभा यात्रा का गांव के कई चोराहों पर स्वागत किया गया.

जगह-जगह शोभा यात्रा पर फूलों की वर्षा की गई. श्रद्वालु भगवान की भक्ति में लीन होकर भजनों पर नाचते हुए चल रहे थे. आयोजन समिति ने बताया कि यात्रा का उद्धेश्य युवा पीढ़ी को धर्म से जोडऩा और युवाओं को भक्ति में लगाना है ताकि युवा भी हमारी सांस्कृति को समझ सकें. आज कई त्यौहारों और दिवसों की प्रमुखता खत्म होती जा रही है जिसे बचाये रखने के लिए ये आयोजन किया गया.

शंकर मंदिर हिनौतिया में हुआ भव्य भंडारा

राजधानी के अस्सी फिट रोड अशोका गॉर्डन स्थित हिनौतिया के शंकर मंदिर में श्री नवदुर्गा समिति द्वारा भव्य भंडारे का आयोजन किया गया. इस अवसर पर सर्वप्रथम पंडित अवध किशोर दीक्षित द्वारा हवन एवं पूजा अर्चना संपन्न की कराई गई तत्पश्चात हजारों की तादात में लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया. समिति के अध्यक्ष जीतेन्द्र कुशवाहा ने बताया कि भंडारे का आयोजन लगातार 48 वर्षों से किया जा रहा है. भंडारे एवं दुर्गा उत्सव में गोलू, राजू, जीतू ठाकुर, अनिल, योगेश, शीतल सहित कई श्रद्धालुओं ने सहयोग किया.

देर रात तक मां के जगराते

भोपाल. चैत्र नवरात्र के अंतिम दिन आज शहर के मठ मंदिरों और आश्रमों में शक्ति उपासकों ने मां जगदम्बा के महागौरी स्वरूप की पूजा अर्चना कर उनकी अराधना की.मां दुर्गा के महागौरी स्वरूप की कृपा पाने श्रद्धाजुजन सुबह से ही मंदिरों में माता रानी को जल चढ़ाकर उनकी पूजा अर्चना करते नजर आए. इस मौके पर कन्या भोज व भंडारे के आयोजन भी हुए. मां की अराधना का यह सिलसिला देर रात तक शहर में चलता रहा.

मंदिरों में उमड़ा सैलाब

चैत्र नवरात्र के अंतिम दिन शहर के प्रमुख देवी मंदिरों में आज सुबह से ही भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा. जहां भक्तजन मां जगदम्बे की कृपा पाने उनकी पूजा और भोग अर्पित कर मनाते नजर आए. मां को हलवा-पूड़ी का भोग लगाने का सिलसिला मंदिरों में देर रात तक चलता रहा. यही स्थिति शहर के हर एक गली मोहल्लो में भी नजर आई जहां लोगों ने घर-घर कन्या भोज के आयोजन किये.

तांत्रिक नवचंण्डी दरबार

ऐशबाग स्थित 3 नवीन नगर में तांत्रित नवचंडी दरबार में आज चैत्र महानवत्र का पर्व श्रद्धाभक्ति के साथ मनाया गया. यहां मंदिर के महंत तांत्रिक जेएस राजपूत गुरूजी ने दीन दुखियों की सेवा करने सहित अनेक कल्याण कार्यो को अपने आचरण में उतारने का भक्तों से आव्हन किया. इस मौके पर उन्होंने भक्तों को संबोधित करते हुए कहा कि जो गुरू भक्ति, शक्ति की भक्ति और देश की भक्ति का कार्य करते है उन्ही का जीनवन धन्य होता है.

विभिन्न जगहों पर हुए कन्या भोज, निकली भव्य ऐतिहासिक शोभा यात्रा

मंडीदीप शहर में रविवार को रामनवमी के अवसर पर आराध्य भगवान श्री राम के जन्मोत्सव पर्व रामनवमी पर सम्पूर्ण शहर में भगवान राम के जयकारे दिनभर गूंजते रहे. भए प्रगट कृपाला दीनदयाला की गूंज से पूरा क्षेत्र गूंजायमान हुआ दोपहर 12 बजते ही मंदिरो में जन्मोत्सव धूमधाम के साथ मनाया गया. साथ ही इस मौके पर भव्य शोभा यात्रा का आयोजन किया गया.

रामनवमी पर पहली बार आयोजित इस ऐतिहासिक शोभा यात्रा आकर्षण का केन्द्र रही. जिसमें शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के करीब दस हजार लोग शामिल हुए. इसमें सबसे बड़े कमाल की बात यह है कि शोभा यात्रा किसी बैनर और संगठन द्वारा आयोजित नहीं की गई थी, इसके बावजूद यात्रा मैं उमड़ा जन सैलाब यात्रा को ऐतिहासिक बना गया. यात्रा के समापन पर भगवान श्री राम की महाआरती के बाद प्रसाद वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया.

शोभायात्रा में सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक संगठनों के अलावा नगर के गणमान्य नागरिक शामिल हुए.नगर में शोभा यात्रा के मार्ग पर विभिन्न संगठनों द्वारा स्वागत कर कार्यक्रम रखा गया. जगह-जगह लगे स्वागत स्टालों के माध्यम से शोभा यात्रा में शामिल लोगों को ठंडे पानी की व्यवस्था के साथ पुष्प वर्षा कर उनका स्वागत किया गया.

नर्माण ने मलिन बस्ती में कराया कन्या भोज

भोपाल. आज रामनवमी के अवसर पर निर्माण समिति ने नेहरू नगर स्थित मलिन बस्ती में कन्या भोज एवं भंडारे का आयोजन किया. इस अवसर पर अध्ययन केन्द्र की कन्याओं को भोज कराया गया तथा पूजा आरती कर देवी स्वरूप कन्याओं का आशीर्वाद लिया गया. कन्या भोज एवं भंडारे में आस-पास से काफी संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया एवं मां के नारे से परिसर गुंजायमान हो उठा.

खेड़ापति माता को चढ़ाई 51 मीटर की चुनरी

मण्डीदीप. शहर के सतलापुर में स्थित वार्ड क्रमांक 15 में कीर समाज द्वारा चौत्र नवरात्रि के अवसर पर माँ शारदा की विधि विधान पूर्वक प्राण प्रतिष्ठा की गई. जिसके साथ चुनरी यात्रा निकाली गई. जिसमें 51 मीटर चुनरी महिलाएं सिर पर रख कर मंगलगान करती हुई चल रही थी. साथ युवा डीजे की थाप पर भक्ति गीतों पर थिरकते नजर आए. चुनरी यात्रा प्रात 10.30 बजे आयोजन स्थल से प्रारम्भ होकर शुक्रवार बाजार, हाउसिंग बोर्ड कालोनी, भोला नगर, होती हुई खेड़ापति माता मंदिर सतलापुर पर समापन हुई.

Related Posts: