प्रदेश में सात चरणों में होने जा रहे चुनाव में 12.58 करोड़ मतदाता भाग लेंगे. चुनाव की तैयारियां पूरी हो गई हैं. निर्वाचक नामावली में फोटोग्राफ का प्रतिशत 98 प्रतिशत तक पहुंच गया है और 98.50 प्रतिशत मतादाताओं के फोटो पहचान पत्र बन चुके हैं.

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमेश सिन्हा ने शनिवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि प्रदेश में चुनाव के लिए सारी तैयारी पूरी हो चुकी है. 2 जनवरी को निर्वाचक नामावली का अंतिम रूप से प्रकाशन कर दिया जाएगा. इसके प्रकाशन के बाद प्रदेश में मतदाताओं की संख्या 11.19 करोड़ से बढ़कर 12.58 करोड़ रुपये हो जाएगी. उन्होंने बताया कि प्रदेश में मुख्य मतदेय स्थलों की संख्या 1 लाख 28 हजार 112 एवं मतदान केंद्रों की संख्या 87,313 है. कई स्थानों पर मतदेय स्थलों की संख्या बढ़ जाने के कारण वहां सहायक मतदेय स्थल बनाये जाएंगे. उन्होंने बताया कि प्रदेश में 18-19 साल के युवा मतदाताओं की संख्या 52.53 लाख है. ये पहली बार वोट डालेंगे. मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि चुनाव कार्यक्रम घोषित होने के बाद पंजीकरण अभियान में भी फेरबदल किया गया है. अब पहले चरण के लिए पंजीकरण अभियान 2 जनवरी से 10 जनवरी तक चलाया जाएगा जबकि अन्य चरणों के लिए 2 जनवरी से 12 जनवरी तक ही रहेगा. उन्होंने बताया कि उम्मीदवारों, राजनीतिक दलों तथा जन सामान्य की सुविधा के लिए मुख्य निर्वाचन कार्यालय में एक काल सेंटर स्थापित किया जा चुका है, जिसका नंबर 1800 180 1950 है. उन्होंने बताया कि प्रदेश में सेक्टर मजिस्ट्रेटों के प्रशिक्षण का कार्य हो चुका है. इन्हें जल्द ही तैनात किया जाएगा. मतदेय स्थलों पर मतदान कार्मिकों की तैनाती तीन बार डाटा रैंडमाइजेशन के बाद ही की जाएगी. उन्होंने एक बार फिर दोहराया कि इस बार चुनाव में उम्मीदवारों के खर्च पर विशेष निगाह रखी जाएगी. उम्मीदवार को एक अलग खाता रखना होगा. उसमे रुपये डालने के बाद ही वे खर्च कर सकेंगे. इसके अलावा चुनाव में पुलिस के आब्जर्वर भी रहेंगे जो प्रत्याशियों के खर्च का आकलन करेंगे. उम्मीदवारों द्वारा मतदाताओं को लोभ देने की घटनाओं पर नजर रखने के लिए माइक्रो आब्जर्वर भी रहेंगे, जो आयोग को सूचना देंगे.

Related Posts: