काठमांडू, 14 मई. नेपाल के पर्वतीय उत्तरी इलाके में 21 लोगों को लेकर जा रहा निजी कंपनी का एक विमान आज पहाड़ी क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें 13 भारतीय सहित 15 लोग मारे गए .

अधिकारियों ने कहा कि निजी अग्नि एयरलाइंस का डॉर्नियर विमान आज जॉमसोम हवाई अड्डे के निकट उतरते वक्त दुर्घटनाग्रस्त हो गया . जॉमसोम हवाई अड्डा हिमालयीय क्षेत्र में ट्रेकिंग की मशहूर जगह है . त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के बचाव समन्वय समिति के एक अधिकारी ने बताया कि जॉमसोम हवाई अड्डे की ओर वापस आते वक्त पोखरा के निकट यह विमान एक पहाड़ की चोटी से टकरा गया . जख्मी लोगों को पोखरा के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां चार भारतीय नागरिकों की हालत गंभीर बतायी जा रही है . अधिकारी ने कहा कि जिस वक्त सुबह में विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ उस वक्त यह जॉमसोम हवाई अड्डे की ओर जा रहा था . उन्होंने कहा कि दुर्घटना का कारण तकनीकी खराबी हो सकती है.

भारतीय दूतावास के अधिकारियों से जब संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि वे जानकारी लेने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि विमान में सवार रहे यात्रियों की नागरिकता को लेकर थोड़ी भ्रम की स्थिति है . एक अधिकारी ने बताया कि विमान यात्रियों को पर्यटन स्थल पोखरा से हिंदुओं एवं बौद्धों के पवित्र स्थल मुक्तिनाथ लेकर जा रहा था . अग्नि एयर के प्रमोद पाण्डेय ने कहा कि यात्रियों में डेनमार्क के दो नागरिक भी थे . हालांकि, उनकी स्थिति के बारे में जानकारी नहीं मिल सकी है . पाण्डेय ने कहा, ‘जॉमसोन हवाई अड्डे पर विमान को उतारने में ज्यादा दिक्कत नहीं थी . हम वहां अनुभवी पायलटों की सेवा लेते हैं . इसलिए जो पायलट विमान उड़ा रहा था वह काफी अनुभवी था .

बाल-बाल बची बच्चियां

हादसे में दो खुशकिस्मत भारतीय बच्चियों की जान बच गयी. दोनों बच्चियां उन छह लोगों में शामिल हैं जिन्हें विमान के मलबे से जिंदा बाहर निकाला गया. अग्नि एयर के डॉर्नियर विमान की एक पहाड़ की चोटी से हुई टक्कर की वजह से हुए हादसे में जीवित बची दोनों बच्चियों में एक की उम्र छह जबकि दूसरे की उम्र नौ साल है. भारतीय दूतावास की प्रवक्ता अपूर्वा श्रीवास्तव ने  बताया, बच्चियां होश में हैं और खतरे से बाहर हैं.  यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि बच्चियों के माता-पिता जीवित हैं कि नहीं.

Related Posts: