उमरिया 21 नवम्बर, नभाप्र. उमरिया जिले के पाली ब्लॉक अंतर्गत वन परिक्षेत्र घुनघुटी के ग्राम चौरी में घयल 14 वर्षीय बीटू नर बाघ मिलने के उपरांत उपचार हेतु बांधवगढ़ ले जाते समय उसकी 20 नवम्बर की रात्रि शहडोल जिले के जयसिंह नगर के सपीप मृत्यु हो गई थी, जिसका 21 नवम्बर को शव परीक्षण उपरांत अंतिम संस्कार कर दिया गया।

पार्क सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार घुनघुटी वन परिक्षेत्र अंतर्गत ग्राम चौरी की सड़क के किनारे एक 14 वर्षीय नर बाघ घायल अवस्था में मिलने की जानकारी बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान को प्राप्त होने के उपरांत रविवार शाम उसे घुनघुटी वन परिक्षेत्र के कर्मचारियों व बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान के कर्मचारियों के सम्मलित प्रयास से बाघ को उपचार हेतु ट्रंकलाइंस कर बांधवगढ़ ले जाने का सफल प्रयास किया गया और उसे ले जाते समय शहडोल जिले अंतर्गत जयसिंहनगर के समीप  वाहन पहुंचने के पूर्व ही बाघ की मौत हो गई। बताया गया है कि बाघ के शरीर में बड़े-बड़े घाव थे, यह बता पाने में सक्षम नहीं है कि बाघ के शरीर पर हुये घाव एक बाघ के दूसरे बाघ से लडऩे के दौरान उत्पन्न हुए या शिकारियों द्वारा घायल किया गया है। बहरहाल बाघ का शव परीक्षण बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान में किए जाने के उपरांत अमताखोल नामक स्थान में अंतिम संस्कार शव दहन के साथ कर दिया गया है।

Related Posts: