19Rai06स्व-सहायता समूह का बिल पास करने मांगी गई 15 सौ रुपए की रिश्वत प्रधानाध्यापक को उस वक्त महंगी पड़ गई जब लोकायुक्त की टीम ने प्रधानाध्यापक को आवेदक से उक्त रकम लेते रंगे हाथों धरदबोचा.

बताया जाता है कि प्रधानाध्यापक द्वारा रुपए मांगे जाने की शिकायत आवेदक द्वारा एक दिन पूर्व लोकायुक्त कार्यालय भोपाल में की गई थी. शिकायत पर गुरूवार को लोकायुक्त की टीम ने उक्त कार्रवाई को अंजाम दिया.

रायसेन, 19 मार्च नससे. बालक शा. प्राथमिक शाला पटेल नगर के प्रधानाध्यापक कुंवर सिंह चौहान को लोकायुक्त की टीम ने 15 सौ रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों धर दबोचा. आरोपी द्वारा रायसेन निवासी आवेदक चेतन राय से उक्त राशि की कई दिनों से मांग की जा रही थी. आवेदक की शिकायत पर लोकायुक्त की टीम द्वारा की गई कार्रवाई में स्कूल के कार्यालय कक्ष में जैसे ही समूह संचालक ने प्रधानध्यापक को रिश्वत की राशि थमाई की लोकायुक्त टीम ने तुरंत छापा मारकर शिक्षक की जेब से राशि बरामद की तथा कैमिकल से हाथ धुलाए जाने पर कैमिकल लाल रंग का हो गया. जिस समय लोकायुक्त टीम ने स्कूल में छापामारी की उस दौरान स्कूल के बाहर भारी भीड़ एकत्रित हो गई.

समूह संचालक को लेना था 9 हजार का चेक

बताया जाता है कि शिकायतकर्ता राधा देवी जय मां अम्बे स्वसहायता समूह के नाम से समूह का संचालन करती हैं जो स्कूल के छात्र-छात्राओं को माध्यान्ह भोजन उपलब्ध करात है. समूह संचालक को स्कूल से रसोईयों को भुगतान किए जाने हेतु स्कूल से 9 हजार रूपए का चेक लेना था. इस चेक के बदले स्कूल के प्रधानध्यापक समूह संचालक को तीन माह से परेशान कर 2 हजार रूपए की मांग कर रहा था. बातचीत के बाद शासकीय बालक प्राथमिक शाला पटेल नगर के प्रधानध्यापक कुंवर सिंह चौहान व समूह संचालक के बीच 1500 रूपए में सौदा तय हुआ. गुरूवार को मांगी गई रकम देने की बात हुई.

समूह संचालक ने इस बात की शिकातय लोकायुक्त पुलिस भोपाल में की. जिस पर लोकायुक्त पुलिस ने योजना बनाकर रिश्वत के रूप में देने के लिए 500 के तीन नोटों पर कैमिकल लगाकर समूह संचालक को दिए. जैसे ही प्रधानध्यापक को रिश्वत की राशि दी गई तुरंत ही लोकायुक्त पुलिस की टीम ने स्कूल में प्रवेश कर प्रधानध्यापक कुंवर सिंह चौहान को की जेब से राशि वरामद कर उनके हाथ कैमिकल से धुलवाए गए तो उनके हाथ लाल हो गए.

Related Posts: