सीधी 2 नवम्बर का. जिला मुख्यालय से करीब 40 किलोमीटर दूर स्थित शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय मरसरहा में आज दोपहर बच्चों को विषाक्त मध्यान्ह भोजन परोसे जाने और उनके खाने के बाद पन्द्रह बच्चों की तबियत बिगड़ गयी. गंभीर रूप से बीमार चार बच्चों को जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है तथा चार बच्चे अस्पताल में भर्ती कराने के लिये भेजे गये हैं.

जिला अस्पताल में भर्ती कराये गये बच्चों में प्रिया पिता रामलल्लू केवट 13 वर्ष, सुमन पिता हरिलाल के वट 13 वर्ष, रेखा पिता चिंतामणि केवट 15 वर्ष, कंचन पिता बृहस्पति केवट 13 वर्ष शामिल हैं.सूचना मिलने पर जिला मुख्यालय से पहुंची डॉक्टरों की टीम ने प्रभावित बच्चों का उपचार कर स्थिति में नियंत्रण का प्रयास किया. ग्राम पंचायत मरसरहा सरपंच हिन्छराज सिंह चौहान ने घटना के संबंध में बताया कि आज दोपहर करीब डेढ़ बजे पुष्पांजली स्वसहायता समूह द्वारा विद्यालय में बने किचनशेड में मध्यान्ह भोजन में दाल-चावल

एवं बैगन की सब्जी तैयार किया गया. भोजन खाते ही दर्जनों बच्चों ने उल्टी करना शुरू कर दिया. विषाक्त भोजन करीब 100 बच्चों को परोसा गया था.कई बच्चों की तबियत बिगडऩे और उल्टी करने पर मध्यान्ह भोजन का बारीकी से निरीक्षण करने पर उसमें मृत छिपकली मिली. जिसकी सूचना बृजभान प्रसाद साकेत द्वारा उनको दी गयी. इसे गंभीरता से लेते हुए सरपंच ने तत्काल दूरभाष पर इसकी जानकारी सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला को दी. विधायक की पहल पर जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा डॉक्टरों की टीम स्कूल में भेजा गया. विषाक्त मध्यान्ह भोजन मरसरहा विद्यालय में परोसे जाने की जानकारी मिलने पर जिला पंचायत सीधी, राजस्व विभाग से भी टीम मामले की जानकारी लेने के लिये मौके पर पहुंची. डॉक्टर आर.के.तिवारी के नेतृत्व में पहुंची टीम द्वारा तत्परता से सभी प्रभावित बच्चों को आवश्यक दवाईयां दी गयी. डॉक्टरों की टीम ने बताया कि 15 बच्चों की तबियत खराब थी. उपचार के बाद ज्यादातर बच्चों की हालत में सुधार बताया गया. जिला पंचायत से पहुंची टीम द्वारा विषाक्त मध्यान्ह भोजन बच्चों को परोसे जाने के संबंध में किसकी लापरवाही थी इस पर सभी से पूछताछ की गयी. टीम द्वारा इस लापरवाही पर कई घण्टे पूछताछ चली. समूह द्वारा प्रारंभिक तौर पर मध्यान्ह भोजन पकाने वाले रसोईया को गलती के लिये जिम्मेदार ठहराया जा रहा है.

  •  स्थिति नियंत्रण में है

गोपद बनास एसडीएम बी.बी.पाण्डेय ने बताया डॉक्टरों की टीम के साथ ही राजस्व विभाग से आर.आई.आनंदी पाण्डेय को भेजा गया. उपचार के बाद स्थिति नियंत्रण में है.

  •  जानकारी नहीं

प्राचार्य बी.एम.शुक्ला ने अपरान्ह करीब 4 बजे दूरभाष पर बताया कि उन्हें मरसरहा विद्यालय में विषाक्त भोजन बंटने के संबंध में कोई जानकारी नहीं है. जबकि मरसरहा विद्यालय अमरपुर से केवल एक किलोमीटर दूर ही है.

Related Posts: