भोपाल,11 नवम्बर. प्रदेश में गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले अनुसूचित-जाति वर्ग के जरूरतमंदों को स्व-रोजगार उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से उन्हें सेवा एवं कुटीर उद्योग क्षेत्र में विभिन्न बैंकों के माध्यम से आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई जा रही है. चयनित हितग्राहियों को स्व-रोजगार प्रारंभ करने के पूर्व डॉ. अम्बेडकर अनुसूचित-जाति स्व-रोजगार प्रशिक्षण योजना के जरिये प्रशिक्षण भी दिलाया जा रहा है. मध्यप्रदेश राज्य सहकारी अजा वित्त एवं विकास निगम की इस योजना में पिछले चार वर्षों में अनुसूचित-जाति वर्ग के 15 हजार हितग्राहियों को स्व-रोजगार प्रशिक्षण दिलाया गया. चुने हुए हितग्राहियों को प्रशिक्षण अवधि में नि:शुल्क आवासीय सुविधा एवं स्टाईफण्ड भी उपलब्ध करवाया गया है. हितग्राहियों को मार्केटिंग एवं मैनेजमेंट के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाती है.

Related Posts: