MP2नरसिंहगढ़,  तहसील क्षेत्र में पार्वती-रेसई परियोजना को मंजूरी मिल गई है. शनिवार रात भंडारी पेलेस पर आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान विधायक ने परियोजना की जानकारी दी.

इस परियोजना अंतर्गत रेसई गांव स्थित पार्वती नदी पर डेम का निर्माण किया जाएगा. जिसके बनने उपरांत क्षेत्रवासियो को भविष्य में भी जलसंकट का सामना नही करना पड़ेगा. इस परियोजना के तहत महज नदी के तट पर स्थित लगभग 400 हेक्टेयर की भूमि डूब क्षेत्र में आ रही है.

जबकि डेम निर्माण उपरांत इलाके की करीब 30 हजार हेक्टेयर भूमि सिंचिंत हो सकेगी. ज्ञात रहे कि वर्ष 1964 से प्रस्तावित परियोजना पर 92 गांव सहित चिढ़ी खौ अभ्यारण्य और श्यामजी मंदिर जेसी ऐतिहासिक धरोहरो के डूब क्षेत्र में आने के चलते परियोजना पर ग्रहण लगा हुआ था.

लेकिन विधायक के प्रयासो के बाद जल संसाधन विभाग के प्रमुख सचिव आर जुलानिया सहित बड़े इंजीनियर और अधिकारियो ने कुछ माह पूर्व परियोजना स्थल का दौरा कर कम उंचाई और नई तकनीक से डेम निर्माण को झंडी मिली. जिसके बाद इस वित्तीय वर्ष में प्रदेश सरकार ने डेम निर्माण को अपनी मंजूरी दे दी है.क्षेत्र के विकास में यह परियोजना मील का पत्थर साबित होगी।

Related Posts: