कसाब का दिया था साथ

नई दिल्ली, 25 जून. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इंदिरा गांधी इंटरनेशनल हवाई अड्डे से कुख्यात आतंकी जबीउद्दीन उर्फ अबू हमजा को गिरफ्तार किया है. पुलिस को उसकी मुंबई में 26/11 के हमले और गुजरात में हुए बम धमाकों में तलाश थी.

भारत के आग्रह पर इंटरपोल ने उसके खिलाफ रेड कार्नर नोटिस भी जारी किया था जिसमें वह हथियारों, विस्फोटकों के इस्तेमाल और आतंकी गतिविधियों में शामिल होने का आरोपी था. अबु हमजा के इंडियन मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तैयबा से संबंध बताए जाते हैं. पुलिस को हमजा के एयरपोर्ट पर आने की सूचना मिली थी. इसके बाद पुलिस ने एयरपोर्ट पर जाल बिछाकर उसे गिरफ्तार किया. हमजा के पास से पाकिस्तानी पासपोर्ट और कई दस्तावेज बरामद किए गए हैं. गिरफ्तारी के बाद हमजा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे 5 जुलाई तक पुलिस रिमांड पर दे दिया गया. उससे एनआईए के अफसर पूछताछ करेंगे. उसकी गिरफ्तारी के साथ मुम्बई हमले के दौरान लश्कर ए तैयबा के 10 आतंकवादियों और पाकिस्तान में बैठे उनके आकाओं के बीच बातचीत के दौरान रिकॉर्ड की गई रहस्यमयी आवाज की पहचान हो गई है.  अंसारी ने लश्कर आतंकियों से मीडिया को यह संदेश देने के लिए नरीमन हाउस पर हमला करने को कहा था कि ‘हमला एक ट्रेलर है.

और समूची फिल्म आनी अभी बाकी है.’
अधिकारियों ने बताया कि आवाज अंसारी की थी और इसके बाद उसकी गतिविधियों पर नजर रखी गई तथा आखिरकार उसे एक खाड़ी देश में पकड़ लिया गया. पकड़ी गई बातचीत में अंसारी को ‘प्रशासनÓ जैसे कुछ खास हिन्दी शब्दों का इस्तेमाल करते सुना गया था और वह आतंकवादियों को अपनी पाकिस्तानी पहचान छिपाने को कह रहा था तथा निर्देश दे रहा था कि वे खुद को हैदराबाद के टोली चौक से संबंधित डेक्कन मुजाहिदीन का सदस्य बताएं. विशेष अदालत के समक्ष उसकी मौजूदगी का उल्लेख मुम्बई हमलों में जीवित पकड़े गए एकमात्र आतंकवादी आमिर अजमल कसाब ने भी किया था. जबीउद्दीन को सउदी अरब से पकड़कर भारत लाया गया था. बाद में वह पाकिस्तान भाग गया था. वह साल 2006 से ही फरार था. इसकी गिरफ्तारी से 26/11 मामले में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. 26/11 हमले के अलावा अबू हमजा की कई और आतंकवादी वारदातों में तलाश थी.

Related Posts: