bpl1भोपाल, बीई की छात्रा को डीआरएम ऑफिस के सामने से ऑटो में अपहरण का प्रयास करने वाले आरोपी शरीफखान ने 70 घंटे बाद जिला अदालत में सरेंडर कर दिया. सूचना पर अदालत पहुंची. उसने आरोपी शरीफ को अदालत से तीन दिन के रिमांड पर ले लिया है. आरोपी शरीफ ने गुरूवार की शाम 7 बजे टीकमगढ़ से भोपाल पढऩे आई छात्रा के अपहरण का प्रयास किया था.

70 घंटे की मेहनत रंग लाई – घटना के बाद आरोपी छिंदवाड़ा भाग गया था. इधर पुलिस की छह टीमों ने तीन दिन में आरोपी के 17 संभावित ठिकानों पर दबिश दी थी. इस दौरान पुलिस लगातार शरीफ के परिजनों और दोस्तों से भी आरोपी के बारे में सख्ती से पूछताछ करती रही. वहीं गृह मंत्री बाबूलाल गौर भी इस मामले पर बारीकी से अपनी नजर गढ़ाए हुए थे. आखिर में पुलिस की सख्ती रंग लाई और इस सनसनीखेज वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी को सरेंडर करना पड़ा. एएसपी राजेश भदौरिया ने बताया कि सबूत के तौर पर एक ऑटो था, जो पुलिस को मौके से मिला था. उसके रजिस्ट्रेशन नंबर और चेचिस नंबर से भी आरोपी ने अपराध करने की नीयत से छेड़छाड़ कर दी थी. लेकिन पुलिस ने ऑटो का सही नंबर खोज निकाला और आरटीओ ऑफिस से मिले डिटेल्स के आधार पर आरोपी के पते-ठिकाने तक पहुच गई थी.

दश्हरे वाली रात हुई थी सलसनीखेज वारदात : तीन दिन पहले गुरूवार शाम जब शहर में जगह-जगह रावण दहन चल रहा था. उस दौरान साकेत नगर में गल्र्स हॉस्टल में रहने वाली एक 20 वर्षीय छात्रा जब अपनी सहेली से मिलकर वापस अपने रूम में वापस आ रही थी तो डीआरएम ऑफिस के सामने मौका देख आरोपी शरीफ खान ने छात्रा पर बोरा डालकर उसे अपने आटों में आगे वाली सीट पर अपने पैरों के पास पटक लिया था. ऑटो के कुछ दूर पहुंचने के बाद छात्रा ने सामने से आते कुछ लोगों को देखकर ऑटो से छलांग लगा दी थी. आरोपी शरीफ खान छात्रा को अगवाह करके बरखेड़ा स्थित किसी स्थान पर ले जाने की फिराक में था. लेकिन छात्रा के हाथ से निकल जाने के बाद वह वहां से फरार हो गया था.

Related Posts: