• ब्लैक मंडे

तमिलनाडु एक्सप्रेस में 47 जले, भिवानी में 32 की मौत

नई दिल्ली, 30 जुलाई. आज का दिन ब्लैक मंडे बन गया। नॉर्दर्न ग्रिड फेल हो जाने कारण नौ राज्यों में ब्लैक आउट के बाद आंध्र प्रदेश के नेल्लोर में तमिलनाडु एक्सप्रेस के एस-11 कोच में आग लगने से 47 यात्री जिंदा जल गए, जबकि 28 अन्य बुरी तरह से घायल हो गए। अमृतसर में एक मानवरहित क्रॉसिंग पर पैसेंजर ट्रेन से स्कूल बस टकरा गई। इस हादसे में 5 बच्चों की मौत हो गई और 19 जख्मी हो गए।

हरियाणा के भिवानी में श्रद्धालुओं से भरा एक कैंटर ट्रक से टकरा गया। हादसे में 32 लोगों की मौत हो गई और लगभग 15 लोग घायल हैं, जिनकी हालत गंभीर है। भिवानी के एसपी ने बताया कि 22 व्यक्तियों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि बाकियों ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। श्रद्धालु राजस्थान के धुलघा मारी मंदिर से हरियाणा के कैथल जिले के कालायत जा रहे थे। दिल्ली से चेन्नै जा रही तमिलनाडु एक्सप्रेस के एस-11 डिब्बे में तड़के 5 बजे के करीब आग लग गई। डिविजनल रेलवे मैनेजर अनिल कुमार ने  इस हादसे में 47 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है।  शॉर्ट सर्किट की वजह से डिब्बे में आग लगी। जब आग लगी तो ज्यादातर लोग सोए हुए थे। ज्यादातर यात्रियों के शव पहचानने लायक भी नहीं रह गए हैं।  घायलों को नेल्लोर के अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। रेल मंत्री मुकुल रॉय ने  मारे गए लोगों के परिवार को 5-5 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है।

नेल्लोर के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर श्रीधर ने बताया कि डिब्बे में आग टॉयलेट के पास शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी है। मौके पर पुलिस और रेलवे के आला अधिकारी पहुंच गए हैं। आग को पूरी तरह से बुझा लिया गया है और जले हुए डिब्बे को अलग करके बाकी ट्रेन को चेन्नै रवाना कर दिया गया है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि जब ट्रेन में आग लगी तो कुछ लोगों की आंखें खुल गई। ट्रेन नेल्लोर स्टेशन से थोड़ी देर पहले ही खुलने की वजह से धीरे चल रही थी। कुछ यात्रियों ने ट्रेन से कूदकर जान बचाई, कुछ यात्रियों ने थोड़ी समझदारी से काम लिया और चेन खींचने के बाद जान बचाने के लिए दूसरे डिब्बे में चले गए। ट्रेन रुकने के बाद अफरातफरी मच गई और लोग इधर-उधर भागने लगे। कुछ लोग तो अपनी जान बचाने में कामयाब रहे, लेकिन जिनकी आंख खुलने में देर हो गई उन्हें आग ने अपनी आगोश में ले लिया।

अंधेरे में डूबा आधा भारत

नॉर्दन ग्रिड के फेल होने से पूरे उत्तर भारत में बिजली की सप्लाई ठप हो गई है। दिल्ली, यूपी, हरियाणा, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश में बिजली की सप्लाई बिल्कुल बंद होने की खबर है। सोमवार की रात दो बजकर तीस मिनट से ही उत्तर भारत अंधरे में डूब गया। वहीं, दिल्ली जाने-आने वाली करीब 300 से ज्यादा ट्रेने जहां-तहां फंस गई हैं। दिल्ली मेट्रो का भी यातायात प्रभावित हो गया है। सुबह छह बजे से ही अपनी सेवा देने वाली दिल्ली मेट्रो की ट्रेनों का आवागमन भी पूरी तरह से ठप है। नॉर्दन ग्रिड के अधिकारियों के मुताबिक, तकनीकी खामियों का पता लगाया जा रहा है। बिजली की सप्लाई दोबारा शुरू होने में तीन-चार घंटे का समय लग सकता है।

इंदौर-भोपाल से सवार हुए थे 11 व्यक्ति

भोपाल. नयी दिल्ली से चेन्नई जा रही तमिलनाडु एक्सप्रेस के जिस एस.11 कोच में आज आग लगी, उसमें भोपाल और इंदौर के भी 11 यात्रियों ने आरक्षण कराया था और वे इसमें यात्रा कर रहे थे. इन 11 यात्रियों में से नौ के चेन्नई पहुंचने की खबर है. शेष दो यात्रियों के बारे में पता किया जा रहा है.

इस कोच में भोपाल से चेन्नई तक की यात्रा के लिए शौकत, रियाज, सज्जाद, साबिर, ओ.पी, महाना, भूपेंद्र, वी.एस. चांदले और इंदौर के एक परिवार के सदस्य रोहित, रचित, रश्मि और सिरजीत के नाम से आरक्षण कराया गया था. इनमें से शौकत और वी एस चांदले के अलावा शेष के सुरक्षित चेन्नई पहुंचने की खबर है.

Related Posts: