• समर्थन मूल्य पर खरीदी के लक्ष्य बदले

भोपाल,13 अप्रैल,प्रदेश में इस साल गेहूँ की पैदावार बढऩे के मद्देनजऱ कुल आवक में 9 लाख 5 हजार 200 मीट्रिक टन इजाफे का अनुमान है. इसी वजह से समर्थन मूल्य पर खरीदी का आँकड़ा भी 74 लाख 5 हजार 500 मीट्रिक टन तक पहुँचने की संभावना है.

वक्त के साथ सिंचित और बुवाई क्षेत्र में विस्तार के साथ ही बीज, खाद, ऋण, कीटनाशकों और कृषि यंत्रों की सुगम तथा समय पर आपूर्ति और किसानों को दी गई अन्य सुविधाओं के चलते प्रदेश में इस साल गेहूँ उत्पादन बढ़ा है. राज्य सरकार ने इसी परिप्रेक्ष्य में सभी जिला कलेक्टरों को गेहूँ की आवक का ताजा आकलन करने को कहा था. कलेक्टरों ने इस पर त्वरित कार्रवाई कर अपनी रिपोर्ट पेश कर दी है. इस साल खरीदी का पहला अनुमान था 65 लाख मी. टन- प्रदेश में पिछले साल समर्थन मूल्य पर कुल 49 लाख 64 हजार 957 मीट्रिक टन गेहूँ खरीदा गया था. इसके मद्देनजऱ और फसल आने के पूर्व उत्पादकता वृद्धि का आकलन कर इस साल शुरूआती तौर पर 65 लाख 300 मीट्रिक टन खरीदी का अनुमान था. फसल आने के बाद उत्पादन और बढऩे की संभावना के चलते फिर आकलन करवाया गया.

ताजा स्थिति में 74 लाख 5 हजार 500 मीट्रिक टन गेहूँ खरीद की संभावना है. इसके चलते मौजूदा साल के पूर्व अनुमान के तहत 9 लाख 5 हजार 200 मीट्रिक टन और पिछले साल के मुकाबले इस साल गेहूँ की संभावित खरीदी में 24 लाख 40 हजार 543 मीट्रिक टन की बढ़ोत्तरी होगी. सर्वाधिक बढ़ोत्तरी भोपाल संभाग में-हालिया अनुमान में गेहूँ की आवक में सर्वाधिक एक लाख 79 हजार 500 मीट्रिक टन बढ़ोत्तरी की उम्मीद भोपाल संभाग में की गई है. इसी तरह उज्जैन संभाग में एक लाख 70 हजार 400 मीट्रिक टन, रीवा एक लाख 12 हजार 300 मीट्रिक टन, इंदौर एक लाख 9 हजार 300 मीट्रिक टन, चम्बल 91 हजार 300 मीट्रिक टन, जबलपुर 64 हजार 400 मीट्रिक टन, सागर 44 हजार 200 मीट्रिक टन, ग्वालियर 40 हजार 700 मीट्रिक टन और शहडोल संभाग में 4 हजार 700 मीट्रिक टन आवक बढ़ोत्तरी की उम्मीद की गई है.

विदिशा जिले में सबसे ज्यादा 1.23 लाख मी. टन इजाफा-ताजा आकलन में आवक को लेकर सबसे ज्यादा एक लाख 23 हजार मीट्रिक टन इजाफे का अनुमान विदिशा जिले में लगाया गया है. अन्य बड़े अनुमान वाले जिलों में होशंगाबाद 88 हजार 400, चम्बल 79 हजार 300, हरदा 88 हजार 400 और रीवा 66 हजार 500 मीट्रिक टन के साथ शामिल हैं.

Related Posts: