बसीरहाट (पश्चिम बंगाल), 20 अप्रैल. पिछले कुछ दिनों से अलग-अलग मुद्दों को लेकर नकारात्मक प्रचार का सामना कर रहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आक्रामक रवैया अपनाते हुए शुक्रवार को कहा कि उनके खिलाफ चाहे कितना भी नकारात्मक प्रचार क्यों न किया जाए, जनता के लिए विकास करने के उनके लक्ष्य से उन्हें कोई नहीं रोक सकता.

मीडिया के एक धड़े पर अपनी सरकार की नकारात्मक छवि पेश करने का आरोप लगाते हुए ममता ने कहा, च्च्आपके (जनता के) लिए काम करने से ममता बनर्जी को कोई नहीं रोक सकता. वे लोग, जो झूठे और गलत अभियान के द्वारा हमारी सरकार की छवि धूमिल करने में लगे हैं, मैं उनके सामने यह बात साबित करके रहूंगी. इस तरह के नकरात्मक प्रचार का कोई फायदा उन लोगों को नहीं मिलने जा रहा. दूसरी ओर, राज्य में अगले वर्ष होने वाले पंचायत चुनावों के लिए अल्पसंख्यकों को आकर्षित करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि मुस्लिम ओबीसी को नौकरियों में आरक्षण सुनिश्चित करने के लिए सर्वेक्षण का आदेश दिया गया है.

उन्होंने बताया कि पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री उपेंद्रनाथ बिस्वास ने निर्देश दिए हैं कि इस सर्वेक्षण पर रिपोर्ट तैयार की जाएगी और महीने भर के अंदर विधानसभा में यह कानून पारित किया जाएगा. इस बीच अहमदाबाद से मिली ख़बर के मुताबिक गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को टाइम पत्रिका द्वारा सर्वाधिक प्रभावशाली 100 व्यक्तियों की सूची में शामिल किए जाने पर बधाई दी. मोदी ने माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा है. च्च्पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को टाइम पत्रिका द्वारा दुनिया के सर्वाधिक प्रभावशाली 100 व्यक्तियों की सूची में शामिल किए जाने पर मैं बधाई देता हूं.

अब ममता ने की न्यूज चैनलों की खिलाफत

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रोज नए बयान, आदेश और लोगों को सुझाव देती नजर आ रही हैं. एक ताजा बयान में उन्होंने लोगों से कहा है कि वो कुछ समाचार चैनलों को देखना बंद कर दें या उसे नजरअंदाज कर दें. ममता का कहना है कि ये चैनल उनके प्रति भ्रामक सामग्री और झूठी खबरें प्रसारित कर रहे हैं.

उन्होंने लोगों को एक रैली में संबोधित करते हुए कहा कि कोई भी मुझे आपकी सेवा करने से नहीं रोक सकता. मैं उन लोगों को दिखा दूंगी कि काम कैसे किया जाता है जो मेरे प्रति झूठ और गलत प्रचार करके सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रहे हैं. उत्तरी 24 परागना जिले के रैली में ममता ने दो समाचार चैनलों की तरफ इशारा करते हुए कहा कि वो गलत तथ्यों का सहारा ले रहे हैं और सरकार की गलत तस्वीर पेश कर रहे हैं. साथ ही ममता बनर्जी ने लोगों को चैनलों की एक सूची पढ़कर कहा कि वो समाचार के लिए सिर्फ इन्हीं चैनलों को देखें. गौरतलब है कि ममता ने इससे पहले भी सरकार द्वारा सहायता प्राप्त पुस्तकालयों में कुछ अंग्रेजी और बंग्ला समाचारपत्रों के प्रचार और उपयोग पर भी प्रतिबंध लगा दिया है. इस मामले में प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कंडेय काटजू ने भी आपत्ति जताई थी.

Related Posts: