भोपाल. तेल कंपनियों ने घरेलू गैस सिलेंडर के कनेक्शन में होने वाली धांधली और गैस की किल्लत को दूर करने के लिए कड़ा रूख अख्तियार कर लिया है. एक से अधिक घरेलू गैस कनेक्शन का उपयोग कर रहे उपभोक्ताओं को अतिरिक्त कनेक्शन को लॉक करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

इंडेन गैस ने 85 हजार उपभोक्ताओं को संदिग्ध माना है. इसमें से 16 हजार कनेक्शन अब तक लॉक किए जा चुके हैं. वहीं भारत पेट्रोलियम व हिन्दुस्तान पेट्रोलियम ने भी 50 हजार उपभोक्ताओं को एक से ज्यादा कनेक्शन रखने के मामले में संदेह के दायरे में रखा है. जानकारी के अनुसार तेल कंपनियां को पता चला था कि उपभोक्ता एक नाम से दो या अधिक एलपीजी कनेक्शन लेकर इसका वाहनों में ईधन के रूप में और व्यावसायिक इस्तेमाल कर दुरूपयोग करते है. इसके चलते अन्य उपभोक्ताओं को सिलेंडर रिफिल करवाने में खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है. इसके अलावा घरेलू सिलेंडर की कालाबाजारी भी होती है जिसके चलते तेल कंपनियां एक ही पते पर एक से ज्यादा कनेक्शन मिलने पर अन्य कनेक्शनों को लॉक कर रही है. इंडेन गैस ने 85 हजार उपभोक्ताओं को संदिग्ध माना है जिनके पार एक से ज्यादा कनेक्शन है. इसमें से 16 हजार कनेक्शन अब तक लॉक किए जा चुके हैं.

वहीं भारत पेट्रोलियम व हिन्दुस्तान पेट्रोलियम ने भी 50 हजार उपभोक्ताओं को एक से ज्यादा कनेक्शन रखने के मामले में संदेह के दायरे में रखा है. कंपनियों का कहना है कि जितने कनेक्शनों को संदिग्ध माना गया है, इसका ये मतलब नहीं कि उन सभी के पास एक से ज्यादा कनेक्शन हैं. जिनके परिवार में एक से ज्यादा किचन है, वे इसका प्रमाण एजेंसी में प्रस्तुत कर अपना कनेक्शन दोबारा शुरू करवा सकते हैं. वहीं कनेक्शन की पड़ताल में सबसे ज्यादा परेशानी किराए के मकान में रहने वालों को हो रही है. ज्यादातर लोगों की शिकायत है कि उनके पास एक ही कनेक्शन है, फिर भी उनके कनेक्शन ब्लॉक कर दिए गए. जिन किराएदारों के कनेक्शन ब्लॉक किए गए हैं, वे राशन कार्ड, किरायानामा और अपने आईडी कार्ड की फोटोकॉपी के साथ दोबारा कनेक्शन शुरू करने के लिए आवेदन कर सकते हैं.

Related Posts: