ढकुरिया/पश्चिम कोलकाता/ 16 सितम्बर. राष्ट्रपति बनने के बाद पश्चिम बंगाल की चार-दिवसीय आधिकारिक यात्रा पर पहुंचे श्री प्रणव मुखर्जी के चेहरे पर आज उस वक्त शांति और सुकून के भाव नजर आए. जब वह लंबे अर्से बाद अपने पैतृक आवास पहुंचकर बंधु-बांधवों से मिले.

अपने पैतृक निवास के लिए राजभवन से सुबह साढे नौ बजे श्री मुखर्जी का काफिला निकला और लगभग दस बजे दक्षिण कोलकाता के ढकुरिया स्थित उनके निवास पर पहुंचा. देश के सर्वोच्च पद पर विराजमान होकर अपने गांव और राज्य को गौरवान्वित करने का दर्प उनके चेहरे पर स्पष्ट दिख रहा था. हमेशा गम्भीर दिखने वाले श्री मुखर्जी के चेहरे पर लगातार मुस्कुराहट देखी जा सकती थी. अपनी कार से निकलकर श्री मुखर्जी ने वहां उपस्थित उन सभी लोगों का हाथ हिलाकर अभिवादन किया. . जो उनकी एक झलक पाने के लिए सुबह से ही जमे हुए थे. प्रतीक्षारत लोगों में उनके बंधु-बांधवों और पडोसियों के अलावा मीडियाकर्मी भी शामिल थे.

श्री मुखर्जी के कार से निकलने के साथ ही कैमरों के फ्लैश लगातार चमकने लगे और लगा मानो लगातार बिजली कौध रही हो ढकुरिया की संकीर्ण लेक रोड स्थित उनके पैतृक आवास पर .वातायन. पर उनके विधायक पुत्र अभिजीत मुखर्जी ने उनकी आगवानी की1 राष्ट्रपति की धर्मपत्नी शुभ्रा मुखर्जी भी आवास पर मौजूद थी. कोलकाता पुलिस ने श्री मुखर्जी की यात्रा के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये थे.

Related Posts: