नयी दिल्ली, 04 अक्टूबर. भ्रष्टाचार के खिलाफ देशभर में 11 अक्टूबर से रथयात्रा निकाल रहे भारतीय जनता पार्टी के  वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी इस बार एक अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस बस को अपने रथ के तौर पर इस्तेमाल करेंगे, जिसमें लिफ्ट के अलावा दूरसंचार की सभी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी.

आडवाणी की यह रथयात्रा 18 राज्यों से गुजरते हुए 12,000 किलोमीटर का सफर पूरा करेगी. भाजपा के सचिव श्याम जाजू ने बताया कि रथ के तौर पर इस्तेमाल की जाने वाली एक अत्याधुनिक बस पुणे में तैयार की जा रही है. यह बस आडवाणी की जनचेतना यात्रा शुरु होने से पहले बिहार पहुंच जाएगी. जाजू ने बताया कि बस में लिफ्ट, टेलीविजन, कम्प्यूटर और लोगों को सम्बोधित करने की प्रणाली लैस होगी. इसमें उनके आराम करने की जगह भी होगी और लोगों से बातचीत करने का भी स्थान होगा. उल्लेखनीय है कि भाजपा ने जयप्रकाश नारायण के जन्म स्थान बिहार के सिताब दियारा से उनके जन्मदिन 11 अक्टूबर को आडवाणी की रथयात्रा की शुरुआत करने का एलान किया है. जाजू कहते हैं कि बस सिताब दियारा सम्भवत: नहीं पहुंच पाएगी क्योंकि वहां गांव में अभी भी बाढ़ का पानी जमा है.

उन्होंने कहा कि 84 वर्षीय आडवाणी और पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता हेलीकॉप्टर से सिताब दियारा पहुंचकर जयप्रकाश नारायण को श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे. ये लोग फिर यहां से छपरा जाएंगे, जहां से आडवाणी की यात्रा आगे बढ़ेगी. जाजू ने बताया कि आडवाणी की जन चेतना यात्रा का मुख्य उद्देश्य देश में सुशासन और साफ सुथरी राजनीति कायम करना है.

जाजू ने कहा कि आडवाणी की यात्रा चुनावी राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा होते हुए अरुणाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल ओर असम से होकर गुजरेगी. इस यात्रा के दौरान आडवाणी प्रतिदिन नौ बजे सुबह एक संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करेंगे और उनकी यात्रा सुबह 10 बजे शुरू होकर रात 10 बजे तक जारी रहेगी. छोटी बैठकों के अलावा आडवाणी प्रतिदिन चार रैलियों को सम्बोधित करेंगे. आडवाणी की रथयात्रा में उनके साथ 18 वाहनों का काफिला रहेगा, जिसमें एक एंबुलेंस और एक सुरक्षा घेरा मौजूद रहेगा.

Related Posts: