नई दिल्ली, 18 अप्रैल. पांच हजार किलोमीटर की मारक क्षमता वाली अग्नि-5 के दायरे में अमेरिका को छोड़कर बाकी पूरी दुनिया  आ जाएगी. यूरोप के सभी देश और अफ्रीका इस मिसाइल की पहुंची में होंगे. अपने पड़ोस में केवल चीन ही है, जिसके पास ढ्ढष्टक्चरू है. इसके अलावा अमेरिका, रूस, फ्रांस भी ढ्ढष्टक्चरू से लैस हैं. भारत ने अग्नि 5 को वेपन फॉर पीस कहा है.

क्या हैं अग्नि-5
की खूबियां- अग्नि-5 पांच हजार किलोमीटर दूर तक मार करने वाली मिसाइल है. इस लिहाज से यह भारत की अब तक की सबसे अधिक मारक दूरी वाली मिसाइल होगी. अग्नि-5 तीन चरणों और ठोस ईंधन वाली 17 मीटर लंबी मिसाइल है. एक बार छूटने के बाद इस मिसाइल को रोका नहीं जा सकता है. डीआरडीओ चीफ वीके सारस्वत ने बताया कि डीआरडीओ अगले एक साल तक अग्नि-5 के टेस्ट करेगा. इससे मिले आकंड़ों को विभिन्न मानकों पर परखा जाएगा. टेस्ट लॉन्च के मौके पर डीआरडीओ के प्रमुख डॉ. वी. के. सारस्वत और अन्य आला मिसाइल वैज्ञानिक मौजूद होंगे.  अग्नि-5 इतनी खतरनाक है कि यह 20 मिनट में पांच हजार किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है. यह डेढ़ मीटर के टारगेट पर भी निशाना लगा सकती है. यानी एक कार जैसे छोटे टारगेट पर भी निशाना. अग्नि पांच के लॉन्चिंग सिस्टम में कैनिस्टर तकनीक का इस्तेमाल किया गया है. इस की वजह से इस मिसाइल को कहीं भी बड़ी आसानी से ट्रांसपोर्ट किया जा सकता है, जिससे हम अपने दुश्मन के करीब पहुंच सकते हैं.

सड़क से भी हो सकेगी लॉन्च

इस मिसाइल की सबसे बड़ी खासियत है एमआईआरवी तकनीक. इस तकनीक की मदद से इस मिसाइल से एक साथ कई जगहों पर वार किए जा सकते हैं. अलग-अलग देशों के ठिकानों पर एक साथ हमले हो सकते हैं. देश के किसी भी कोने में इसे तैनात किया जा सकता है. किसी भी प्लेटफॉर्म से युद्ध के दौरान इसकी मदद ली जा सकती हैं. इसे सड़क के किनारे से भी दागा जा सकता है. उल्लेखनीय है कि भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन ने पिछले साल नवंबर में 3,500 किलोमीटर मारक दूरी वाली अग्नि-4 मिसाइल का परीक्षण किया था.

साइबर वल्र्ड में अग्नि 5 की चर्चा
उधर, अग्नि-5 के लॉन्च को लेकर साइबर वर्ल्ड में भी लोगों में गजब का उत्साह है. ट्विटर ट्रेंड में अग्नि-5 सुबह से ही छा गई है. दूसरी सोशल साइट्स पर भी अग्नि-5 का टेस्ट लॉन्च चर्चा का विषय बना हुआ है.

Related Posts: