नयी दिल्ली, 12 अप्रैल, नससे.कैबिनेट ने एयर इंडिया की कायाकल्प और पुनर्गठन योजनाओं को मंजूरी दे दी है. जिसमें अतिरिक्त इक्विटी सहायता का मामला भी शामिल है.  नागरिक उड्डयन मंत्री अजित सिंह ने गुरुवार को घोषणा की कि वर्ष 2020 तक एयर इंडिया में 30 हजार करोड़ रुपये डाले जाएंगे. इसी के साथ मंत्री ने कहा कि एयर इंडिया को पहला ड्रीमलाइनर विमान दो महीने में प्राप्त होगा. उनका कहना है कि एयर इंडिया का पुनर्गठन जरूरी, सरकार इसे लगातार सार्वजनिक धन से नहीं चला सकती.

विदेशी निवेश के लिए  हरी झंडी का इंतजार

एविएशन इंडस्ट्री को सरकार की ओर से बड़ी राहत मिली है. वित्त मंत्रालय ने घरेलू एयरलाइंस कंपनियों में 49 फीसदी तक विदेशी निवेश को मंजूरी दे दी है. विदेशी एयरलाइंस अब घरेलू एयरलाइंस में 49 फीसदी तक हिस्सेदारी खरीद सकेंगी. इस प्रस्ताव पर अब आखिरी फैसला कैबिनेट में होगा. इस फैसले से आर्थिक संकट से जूझ रही घरेलू एयरलाइंस कंपनियों को काफी फायदा पहुंचेगा. किंगफिशर एयरलाइंस इस प्रस्ताव की पुरजोर वकालत करती रही है.  गौरतलब है कि किंगफिशर एयरलाइंस इन दिनों आर्थिक संकट से जूझ रही है जिसका असर एयरलांइस की सेवाओं पर भी पड़ा है.

Related Posts: