हबीबगंज रेल्वे ओव्हर ब्रिज का शिलान्यास, महिला स्पेशल बस की सौगात

भोपाल,2 नवम्बर नभासं.मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि भोपाल के विकास में कोई बाधा नहीं आने दी जायगी. इसके लिये सभी आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराये जायेंगे. मुख्यमंत्री आज यहाँ हबीबगंज रेल्वे ओव्हर ब्रिज के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे.

यह ब्रिज जवाहरलाल नेहरू अर्बन रिन्यूल मिशन में करीब 38 करोड़ 62 लाख रूपये की लागत से बनाया जायेगा. कार्यक्रम में नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री बाबूलाल गौर, जल संसाधन मंत्री श्री जयंत मलैया तथा राज्यसभा सांसद प्रभात झा उपस्थित थे. मुख्यमंत्री  सिंह ने कहा कि भोपाल को देश का सबसे सुंदर शहर बनाने के लिये तेजी से योजनाएँ क्रियान्वित की जा रही हैं. उन्होंने कहा कि अपने प्रदेश के प्रति गौरव और आत्मीयता का भाव हर नागरिकों में होना चाहिये. मध्यप्रदेश 11वीं पंचवर्षीय योजना में दस प्रतिशत की वृद्धि दर हासिल करने जा रहा है. इसे अगली पंचवर्षीय योजना में बढ़ाकर बारह प्रतिशत किया जायेगा. उन्होंने कहा कि बेटियाँ रहेगी तब ही सृष्टि बचेगी. बेटे और बेटियों को बराबर प्यार दें, बेटियों को जन्म लेने से रोके नहीं. बेटियाँ रहेगी तब ही देश आगे बढ़ेगा.

गौर ने कहा कि हबीबगंज रेल्वे ओव्हरब्रिज के लिये पिछले दो साल से प्रयास किये जा रहे थे. हबीबगंज स्टेशन को आदर्श स्टेशन बनाया जा रहा है. प्रदेश की राजधानी भोपाल का विकास आगामी वर्षों की जरूरत के अनुसार किया जा रहा है. सांसद झा ने कहा कि मध्यप्रदेश विकास के मामले में अग्रणी है. बीते सात-आठ वर्षों में विकास के कीर्तिमान बनाये गये हैं. विकास में राजनीति नहीं होना चाहिये.

महापौर  कृष्णा गौर ने स्वागत भाषण दिया. उन्होंने बताया कि 990 मीटर लंबे तथा 24 मीटर चौड़े छह लेन वाले इस ओव्हर ब्रिज के बनने से यातायात का दबाव कम होगा. कार्यक्रम को मंडल रेल प्रबंधक घनश्याम सिंह ने भी संबोधित किया. खनिज विकास निगम के अध्यक्ष  रामेश्वर शर्मा, नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष रमेश शर्मा, कुक्कुट विकास निगम के अध्यक्ष शैतान सिंह पाल, विधायक  विश्वास सारंग, ध्रुवनारायण सिंह, जितेन्द्र डागा तथा आलोक संजर सहित महापौर परिषद के सदस्य, पार्षद और नागरिक मौजूद थे.

महिला स्पेशल बसों की शुरूआत- मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कार्यक्रम के बाद चार महिला स्पेशल बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. गुलाबी रंग की इन बसों में महिला कंडक्टर रहेंगी तथा इनमें केवल महिलाएँ यात्रा कर सकेगी. मुख्यमंत्री ने बस में बैठी बालिकाओं से बातचीत भी की.

Related Posts: