उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रम में शारीरिक शिक्षा की प्रांसगिकता पर सेमीनार

भोपाल, 9 जुलाई. उच्च शिक्षा मंत्री  लक्ष्मीकांत शर्मा ने आज शहीद भवन में मध्यप्रदेश महाविद्यालयीन शारीरिक शिक्षा शिक्षक संघ द्वारा उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रम में शारीरिक शिक्षा की प्रासंगिकता पर एक सेमीनार का उद्घाटन किया. शर्मा ने कहा कि विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए शारीरिक शिक्षा और खेल जरूरी है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खेलों के विकास को प्राथमिकता दी है. इसके फलस्वरूप आज युवाओं में खेलों के प्रति रूझान बढ़ा है.

राष्ट्रीय खेलों में प्रदेश के युवाओं ने प्रदेश का नाम रोशन किया है. सेमीनार में विधायक दीपक जोशी ने भी विचार व्यक्त किए. शर्मा ने कहा कि शारीरिक शिक्षा को विषय के रूप में शामिल करने के संबंध में विचार-विमर्श कर निर्णय लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि सेमीनार में विद्वानों के सुझावों और निष्कर्ष के अनुसार कार्यवाही करेंगे. उच्च शिक्षा विभाग अन्य राज्यों की अच्छी योजनाओं का अध्ययन कर उन्हें लागू करेगा. कार्यक्रम में विद्वानों ने उच्च शिक्षा पाठ्यक्रम में शारीरिक शिक्षा की प्रासंगिकता विषय परविचार व्यक्त किये. मध्यप्रदेश राज्य अधिकारी संघ के अध्यक्ष डॉ. आर. के. चौरसिया ने बीमारियों के कारण, चिकित्सा की जानकारी दी.

भारतीय मजदूर संघ के प्रांतीय संगठन मंत्री डॉ. ज्ञान प्रकाश तिवारी, फुटबाल संघ के अध्यक्ष अखिलेश खण्डेलवाल, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के निदेशक आई.एम.कुरैशी आदि अतिथियों ने शारीरिक शिक्षा और व्यक्त्तित्व विकास को जरूरी बताया. डॉ. ज्योति जुनगरे ने प्रतिवेदन प्रस्तुत किया. कार्यक्रम में हमीदिया महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. सुधा सिंह, प्रदेश के महाविद्यालयों के क्रीड़ा अधिकारी एवं छात्र-छात्राएँ भी उपस्थित थे.

Related Posts: