• वोट के बदले नोट

नई दिल्ली, 8 नवंबर नससे. वोट के बदले नोट मामले में आरोप का सामना कर रहे समाजवादी पार्टी के पूर्व महासचिव और राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने आज सनसनीखेज दावा करते हुए कहा है कि उन्हें इस मामले में सबकुछ पता है।  लेकिन अमर सिंह ने कहा कि मुकदमा अदालत में विचाराधीन होने के चलते वह इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं। सिंह ने इस मामले में समाजवादी पार्टी पर भी निशाना साधा। स्वास्थ्य से जुड़ी वजहों के आधार पर अदालत से जमानत मिलने के बाद पहली बार मीडिया से मुखातिब अमर सिंह से जब पूछा गया कि इस मामले में अपने पूर्व सांसदों के बेकसूर होने के भाजपा के दावे पर उनकी क्या प्रतिक्रिया है? सिंह ने इस पर कहा, ‘क्या आप मुझे फिर जेल भिजवाना चाहते हैं।

दिल्ली हाईकोर्ट ने 24 अक्टूबर को ही अमर सिंह को उनकी सेहत को देखते हुए जमानत दे दी थी। इससे पहले वह न्यायिक हिरासत में थे और एम्स में इलाज करा रहे थे। वह गुर्दे के अलावा शरीर में कई तरह के संक्रमण की समस्या से जूझ रहे हैं। उन्होंने कहा,’वह अदालत से मिली जेल और बेल (जमानत), दोनों का सम्मान करते हैं और इस मामले के बारे में कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते। सिंह ने कहा, ‘अदालत ने मुझे आठ से 30 नवंबर तक इलाज के लिए सिंगापुर जाने की अनुमति दी है, लेकिन मेरे डॉक्टर के वहां मौजूद नहीं होने के चलते मैं 15 या 16 नवंबर को सिंगापुर जाऊंगा। मैं अपनी यात्रा के कार्यक्रम में बदलाव के बारे में अदालत को सूचित कर दूंगा। अमर सिंह ने कहा, ‘मैं किसी पर आरोप लगाना नहीं चाहता लेकिन नोट के बदले वोट मामले में अफवाहें फैलाकर यह कोशिश की जा रही है कि उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान वहां मेरी नामौजूदगी रहे। यह एक साजिश का हिस्सा है। उन्होंने कहा, ‘इस साजिश की भी जानकारी मुझे है लेकिन मामले के कोर्ट में विचाराधीन होने के चलते मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता। सिंह ने सपा को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि इस मामले में उनके जेल जाने के बाद मुलायम सिंह यादव के नेतृत्व वाली पार्टी के एक नेता ने कहा था कि ‘जैसी करनी, वैसी भरनी। उन्होंने कहा, ‘इस मामले में दिल्ली पुलिस ने समाजवादी पार्टी के नेता रेवती रमण सिंह की भूमिका पर भी संज्ञान लिया है। अब सपा को यह बताना चाहिए कि किसकी करनी है और किसनी भरनी है।

Related Posts: