इस्लामाबाद, 6 जून. पाकिस्तान नाटो के हवाई हमले में अपने 24 जवानों की मौत को लेकर अमेरिका से माफी की मांग पर डटा हुआ है. मामला पिछले साल नवंबर का है जब नाटो ने सलाला स्थित पाकिस्तानी सैन्य चौकी पर हमला कर दिया था.

पाक ने कहा है कि अफगानिस्तान में मौजूद नाटो बलों के अहम सप्लाई रूट्स खोलने को लेकर जारी गतिरोध को खत्म करने के लिए माफी जरूरी है. पाकिस्तान की विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार ने कहा है कि जिस दिन यह घटना हुई उसके कुछ ही दिनों बाद माफी मांग ली जानी चाहिए थी. यह एक साझेदारी की मांग ही नहीं, बल्कि जरूरत है. खार ने कहा कि सियासी सोच-विचार पर उच्च सिद्धांतों को तरजीह दी जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि अमेरिका पाकिस्तान की संसद की इच्छा का सम्मान करे और इस तरह अपने लोकतांत्रिक आदर्शों पर खरा उतरे. गौरतलब है कि पाकिस्तान की संसद ने प्रस्ताव पास कर अमेरिका से नाटो के हवाई हमले के लिए माफी मांगने को कहा था.

Related Posts: