पटना, 10 नवंबर. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अन्ना की टीम पर पलटवार पर लोकायुक्त मामले में टिप्पणी करते हुए कहा कि टीम हद में रहे। मुझे सर्टिफिकेट की ज़रूरत नहीं। गौरतलब है कि उत्तराखंड के लोकायुक्त कानून पर खुशी ज़ाहिर करने वाली टीम अन्ना ने बिहार में लाए जा रहे लोकायुक्त कानून को खारिज कर दिया है।

टीम अन्ना का मानना है कि बिहार सरकार का लोकायुक्त बिल केन्द्र सरकार के लोकपाल जैसा है। टीम अन्ना के सदस्य अरविंद केजरीवाल ने लोकायुक्त बिल की कमियां गिनाते हुए कहा कि इसमें लोकायुक्त का चयन निलंबन और उसकी बर्खास्तगी सरकार के कंट्रोल में होगी इसलिए वो स्वतंत्र नहीं होगा। इसके अलावा किसी भी सरकारी अफ़सर के खिलाफ़ जांच और मुकदमा चलाने से पहले लोकायुक्त को सरकार से इजाज़त लेनी होगी। साथ ही फर्जी शिकायत करने वाले और भ्रष्ट अफसर की सज़ा बराबर है। इस बिल में शिकायत करने वाले के खिलाफ़ भ्रष्ट अफसर को सरकार की ओर से मुफ्त कानूनी मदद मुहैया कराने की बात है। बिहार सरकार ने 22 नवंबर तक जनता से लोकायुक्त बिल पर सुझाव मांगें हैं।

Related Posts: