छतरपुर . 10 जून. नससे.  रविवार  को  जिला  चिकित्सालय में  अजीबो-गरीब मामला  आया.  लोगों  का  उपचार  करने  वाले  कथित  चिकित्सक  ने  स्वयं  अपने  मलद्वार  में  गिलास फंसा लिया था  जिसे ढाई घंटे के ऑपरेशन के  बाद  निकाला जा सका.

आज सुबह  करीब 9 बजे दर्द से परेशान सलैया निवासी  अनूप  नाम के व्यक्ति को जिला अस्पताल लाया गया. चिकित्सकों को बताया गया कि उसके मलद्वार में चाय का गिलास घुस गया है. मलद्वार से रक्त भी निकल रहा था. मामला जटिल देख  सिलि सर्जन डा.केके  चतुर्वेदी ने तत्काल ऑपरेशन थियेटर भेजा और ऑपरेशन की तैयारी की गई. डा. चतुर्वेदी ने बताया कि ढाई घंटे तक किए गए ऑपरेशन के बाद गिलास को मलद्वार से निकाला जा सका. उन्होंने बताया कि ऐसे लोग विकृत मानसिकता के होते हैं जो परिवर्तित सेक्स करने मे विश्वास करते हैं. उन्होंने बताया कि आश्चर्य की बात है कि अनूप नाम का व्यक्ति गांव में इलाज करने का भी काम करता है, उसके पास कोई प्रमाणित डिग्री नहीं है. ऑपरेशन के बाद मरीज को अस्पताल में ही भर्ती कराया गया है.

Related Posts: