सायना नेहवाल, जय भगवान, विजेंदर, स्वर्ण सिंह अगले दौर में

लंदन, 29 जुलाई. भारत की सबसे बड़ी पदक उम्मीद और विश्व की पांचवें नंबर की खिलाड़ी सायना नेहवाल ने लंदन ओलंपिक की बैडमिंटन प्रतियोगिता में अपने अभियान की तूफानी शुरूआत करते हुए स्विट्जरलैंड की सबरीना जैकेट को ग्रुप-ई में 21-9, 21-4 से पीट दिया.

सायना ने ग्रुप में अपना पहला मुकाबला मात्र 22 मिनट में निपटा दिया. उन्होंने पहला गेम 12 मिनट में और दूसरा गेम में दस मिनट में जीत लिया. सायना को अपने ग्रुप का दूसरा मुकाबला आज बेल्जियम की तान लियान से खेलना है. लियान ने कल सबरीना को 21-16, 21-16 से पराजित किया था. अब इस ग्रुप से शीर्ष खिलाड़ी के लिए सायना और लियान के बीच मैच से नाकआउट दौर में पहुंचने वाली खिलाड़ी का फैसला होगा. बैडमिंटन में पहले दिन मिलेजुले प्रदर्शन के बाद भारत को सायना की जीत के रूप में नया मनोबल मिला है. कल पुरुष एकल में पी. कश्यप ने अपना पहला मैच जीता था लेकिन ज्वाला गुट्टा और वी. दीजू को मिश्रित युगल तथा ज्वाला और अश्विनी पोनप्पा को महिला युगल में अपने पहले मैच हारने पड़े थे वहीं भारत के नाविक स्वर्ण सिंह शानदार प्रदर्शन करते हुए लंदन ओलम्पिक की पुरुषों की सिंगल स्कल्स स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में पहुंच गए हैं. आज दूसरे दिन भी ज्वाला गुट्टï और दीजू की जोड़ी अपना मैच हार गई.

सिंह ने रेपेज वन में सात मिनट 00.49 सेकेंड समय के साथ पहला स्थान हासिल किया और अंतिम आठ में जगह बनाने में सफल रहे. एटॉन डॉर्नी में आयोजित तीसरे लेन से शुरुआत करने वाले सिंह को दक्षिण कोरिया के किम डी से कड़ी टक्कर मिली. किम ने सात मिनट 03.91 सेकेंड समय के साथ लेन दो में दूसरा स्थान हासिल किया और क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई. पेरू के एस्पीलागा अलायजा तीसरे और टय़ूनिशिया के ए.मेजरी चौथे स्थान पर रहे. कैमरन के इटिया दुम्गे को पांचवां स्थान मिला. ये तीनों नाविक अगले चरण में जगह बनाने में असफल रहे, वहीं बाक्सिंग में भारत के जय भगवान सिंह ने अपने प्रतिद्वंद्वी को हरा कर अगले दौर में प्रवेश किया. जय भगवान सिंह अपने प्रतिद्वंद्वी से तीनों ही राउंड में आगे रहे और आसानी से मैच जीत लिया.

मुक्के बाज विजेंदर सिंह (75 किग्रा) ने अपनी प्रतिभा के अनुरूप शुरुआत करते हुए यहां कजाखस्तान के डानाबेक सुखानोवा पर आसान जीत दर्ज कर लंदन ओलंपिक की मिडिलवेट मुक्के बाजी स्पर्धा के  प्री-क्वार्टरफाइनल में प्रवेश किया. बीजिंग ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले 26 वर्षीय विजेंदर ने रात पहले राउंड में सतर्क शुरूआत की. उन्होंने शुरू में आक्रामकता नहीं बरती और अपने प्रतिद्वंद्वी को रणनीति के मुताबिक पछाड़ा. विजेंदर अब दो अगस्त को प्री-क्वार्टरफाइनल में अमेरिका के टेरेल गौशा से भिड़ेंगे जिन्होंने शुरूआती राउंड में रैफरी द्वारा बाउट रोकने पर अर्मेनिया के आंद्रानिक हुकोबयान को पराजित किया. भारत की महिला तीरंदाजी टीम लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान पर हुई तीरंदाजी टीम स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में डेनमार्क के हाथों हार कर खिताब की दौड़ से बाहर हो गई है. विश्व की सर्वोच्च वरीयता प्राप्त दीपिका कुमारी, बोम्बाल्या देवी और सी सुरो की टीम डेनमार्क के हाथों 210-211 के अंतर से हारीं. तीसरे राउंड में सुरो ने व्यक्तिगत तौर पर खराब प्रदर्शन करते हुए सिर्फ छह अंक हासिल किए थे जो भारत के लिए महंगा साबित हुआ.

लंबे समय बाद जोड़ी बनाकर खेल रही सानिया और रश्मि ताइपै की सु वेई सी और चिया जुंग चुआंग से लगभग डेढ़ घंटे तक चले मुकाबले में 1-6, 6-3, 1-6 से हार गई. इस हार से रश्मि का ओलंपिक अभियान भी समाप्त हो गया लेकिन सानिया मिश्रित युगल में लिएंडर पेस के साथ कोर्ट पर उतरेगी. भारत को इस जोड़ी से काफी उम्मीद है. भारत की महिला निशानेबाज हिना सिद्धू और अन्नुराज सिंह लंदन ओलंपिक की निशानेबाजी प्रतियोगिता की 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा के फाइनल में जगह नहीं बना सकीं. रॉयल ऑर्टिलरी बैरैक्स रेंज में आयोजित इस स्पर्धा में सिद्धू कुल 382 अंकों के साथ 12वें स्थान पर रहीं जबकि अन्नुराज सिंह 378 अंक जुटाकर 23वें स्थान पर रहीं. लंदन ओलम्पिक में टेबल टेनिस स्पर्धा में भारत की चुनौती समाप्त हो गई. पुरुष एकल वर्ग में सौम्यजीत घोष की हार ने भारत को इस स्पर्धा में पदक से दूर कर दिया. सौम्यजीत को दूसरे दौर में उत्तर कोरिया के हयाक वांग किम के हाथों 1-4 से हार मिली. सौम्यजीत ने पहला गेम 11-9 से जीत कर अच्छी शुरुआत की थी, लेकिन अगले चार गेम में वह 6-11, 5-11, 9-11, 7-11 से हार गए. यह मुकाबला 25 मिनट चला. सौम्यजीत ने महिला वर्ग में अंकिता दास की हार के बाद पदक की उम्मीदों को कायम रखते हुए पहले दौर में आसान जीत हासिल की थी.

Related Posts: