वाशिंगटन, 23 मई. पाकिस्तान को फिर से चेतावनी देते हुए सीनेट के एक पैनल ने अगले साल के लिए उस विदेशी सहायता बजट को मंजूरी दे दी जिसमें इस्लामाबाद के लिए अमेरिकी मदद में आधे से अधिक की कटौती कर दी गई है.

साथ ही यह भी कहा गया है कि पाकिस्तान द्वारा, अफगानिस्तान में मौजूद नाटो बलों के लिए आपूर्ति मार्ग न खोलने की स्थिति में इस सहायता में और अधिक कटौती की जा सकती है. विदेशी अभियानों संबंधी सीनेट विनियोग उप समिति ने इराक, मिस्र और अफगानिस्तान के लिए सहायता में भी कमी कर दी है. लेकिन जॉर्डन के लिए सहायता राशि पाच करोड़ डालर बढ़ा दी गई है ताकि वह हिंसाग्रस्त सीरिया से आ रहे लोगों की मदद कर सके. सीनेट की पैनल ने कुल 52.1 अरब डॉलर के विधेयक को ध्वनि मत से मंजूरी दी. राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एक अक्टूबर से शुरू होने जा रहे वित्तीय वर्ष 2013 के लिए जितनी राशि का अनुरोध किया था, यह राशि उससे 2.6 अरब डालर कम है. वर्तमान व्यय से भी यह राशि 1.2 अरब डालर कम है.

विनियोग समिति कल होने वाली अपनी बैठक में विधेयक पर अंतिम मुहर लगाएगी. सीनेटर पैट्रिक लेही और सीनेटर लिंडसे ग्राहम ने कहा कि पाकिस्तान के लिए सहायता राशि में 58 फीसदी की कटौती की गई है. डेमोक्रेट लेही उप समिति के अध्यक्ष हैं. इससे पहले सासदों ने आतंकवाद के खिलाफ युद्ध के लिए पाकिस्तान की प्रतिबद्धता पर सवाल उठाए. पाकिस्तान में एक सुरक्षित स्थान पर रह रहे ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के एक साल बाद कैपिटॅल हिल में इस बात पर भी नाराजगी जाहिर की गई थी. पाकिस्तान ने नवंबर में सीमा पर एक अमेरिकी हमले में अपने 24 सैनिकों के मारे जाने के बाद अफगानिस्तान के लिए आपूर्ति मार्ग बंद कर दिए थे जिसके बाद तनाव बढ़ गया था.

पैनल के मतदान के बाद ग्राहम ने कहा कि हम उस देश में निवेश नहीं करने जा रहे हैं जो अफगानिस्तान में हमारे बलों के लिए मौजूद खतरे से निपटने के लिए तर्कसंगत तरीके से हमारी मदद नहीं करेगा. इस विधेयक के अनुसार, पाकिस्तान के लिए सहायता राशि एक अरब डालर है. इसमें 18.4 करोड़ डालर की राशि विदेश मंत्रालय के अभियानों के लिए और 80 करोड़ डालर की राशि विदेशी सहायता के लिए है. पैनल ने राशि जारी करने के लिए कई शर्ते भी रखी हैं. इराक के लिए सहायता में 77 फीसदी की कटौती की गई है. इसका कारण वहा के लगातार बिगड़ते सुरक्षा हालात को बताया गया है. विधेयक में इराक के लिए 1.1 अरब डालर की सहायता राशि का प्रावधान है जिसमें 58.2 करोड़ डालर की विदेशी सहायता शामिल है. लेकिन पुलिस विकास कार्यक्रम के लिए कोई मदद नहीं है. लेही ने कहा कि इराक के पुलिस प्रशिक्षण कार्यक्रम में अपेक्षानुसार प्रगति न होने और पाकिस्तान के साथ हमारे संबंधों में महीनों से आए ठहराव के कारण सीनेटर ग्राहम और मैंने उस 88.1 करोड़ डालर की राशि का उपयोग नहीं किया जिसकी समिति ने शुरू में उपसमिति के लिए सिफारिश की थी. जो राशि हमने बचाई वह करदाताओं की है. पैनल ने मिस्र की 25 करोड़ डालर की सहायता राशि में से 50 लाख डालर की कटौती कर दी है.

Related Posts:

गिलानी की सियासत
21वीं सदी है एशिया की, भारत और यूएई के जुडऩे से सपने होंगे पूरे: पीएम मोदी
अफगानिस्तान में भारतीय दूतावास पर फिदायीन हमला, सुरक्षाकर्मी समेत 9 की मौत
माओवादी नेता प्रचंड नेपाल के नए प्रधानमंत्री निर्वाचित
विदेशी हमले की स्थिति में पाकिस्तान का साथ देगा चीन
चीन ने मानवयुक्त अंतरिक्ष यान लांच किया