सेना प्रमुख की पाक को चेतावनी

सैनिकों से बर्बरता पर जताया कड़ा विरोध
ARmy Chief Vikram Singhनई दिल्ली/जम्मू, 14 जनवरी. भारत-पाक बॉर्डर पर नियंत्रण रेखा (एलओसी) के निकट जारी तनाव के बीच दोनों देशों की सेना के बीच फ्लैग मीटिंग सोमवार दोपहर बाद हुई। भारतीय और पाकिस्तानी सेना के बीच फ्लैग मीटिंग सेना के ब्रिगेडियर स्तर के अधिकारियों के बीच हुई, जो करीब 15-20 मिनट तक चली। जानकारी के अनुसार, भारतीय अधिकारियों ने सैनिकों के साथ की गई बर्बरता का मुद्दा उठाया। वहीं, सीजफायर उल्लंघन पर भी पाक अधिकारियों से बात हुई।

उधर, नियंत्रण रेखा पर एक सैनिक का सिर काटने को ‘अक्षम्य’ करार देते हुए सेना प्रमुख बिक्रम सिंह ने सोमवार को चेतावनी दी कि आगे पाकिस्तान की ओर से किसी भी तरह के उकसावे की कार्रवाई का भारतीय सेना आक्रामकता से जवाब देगी। कड़ा रुख अपनाते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि जम्मू कश्मीर के मंढेर इलाके में नियंत्रण रेखा पर छह जनवरी को दो भारतीय सैनिकों की हत्या पाकिस्तान सेना की सोची समझी और पहले से इरादा करके की गई कार्रवाई थी और भारत को पूरा अधिकार है कि वह ‘जब जहां चाहे’ इसका जवाब दे। सेना दिवस की पूर्व संध्या पर यहां संवाददाता सम्मेलन में जनरल सिंह ने कहा कि जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा स्थित भारतीय चौकियों पर पाकिस्तानी गोलीबारी के प्रति भारत का जवाब नपा तुला और सटीक है। उन्होंने कहा कि संघर्ष विराम नवंबर 2003 से प्रभावी है और ‘कुछ अपवाद’ को छोड़कर अपनी जगह पर कायम है। उन्होंने संघर्ष विराम के उल्लंघन के लिए पाकिस्तान को पूरी तरह जिम्मेदार ठहराया।

पाकिस्तानी सैनिकों के भारतीय क्षेत्र में घुसकर भारत के गश्ती दल पर हमला करने की घटना पर सेना प्रमुख ने कहा, ‘सिर काटना (लांस नायक हेमराज का) अस्वीकार्य और अक्षम्य है। उन्होंने कहा, ‘अगर (हमला) पहले से सोच समझकर किया गया था तो उसने (पाकिस्तान ने) अपनी करनी को न्यायोचित ठहराने के लिए झूठी बातें गढ़ी। सेना प्रमुख ने कहा कि बेशक यह हमला पाकिस्तानी सेना के जवानों ने किया, लेकिन इसमें लश्करे तैयबा के आतंकवादियों के उनके साथ होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता।

नियंत्रण रेखा पर बलों का मनोबल ऊंचा होने की बात कहते हुए सिंह ने कहा कि वह ‘मुनासिब वक्तÓ पर वहां जाएंगे। सेना प्रमुख ने कहा कि वह पाकिस्तानी सैनिकों के हाथों मारे गए सैनिक हेमराज सिंह की विधवा के दुख में भागीदार हैं।

उन्होंने कहा, ‘मुझे दुख है (उसके तमाम दुख और तकलीफ के लिए) वह सेना परिवार का हिस्सा हैं, उन्हें तमाम सुविधाएं प्रदान की जाएंगी।’ सैनिक का सिर काटने की घटना पर सेना प्रमुख ने कहा कि भारतीय सेना कभी इस तरह का काम नहीं करेगी। उन्होंने कहा, ‘हम दुश्मन के शव को भी सम्मान देते हैं। यह हमारे मूल्य हैं और कारगिल के युद्ध में आपने यह देखा है।’ पाकिस्तानी सेना की आलोचना करते हुए जनरल सिंह ने कहा कि सिर काटना हर तरह के नियमों के खिलाफ है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि स्थानीय इकाई की तरफ से कुछ ‘सामरिक भूलें’ हुईं’, जिनपर बाद में विचार किया जाएगा क्योंकि इस मौके पर जांच से बलों के मनोबल पर असर पड़ेगा। सेना प्रमुख ने कहा, ‘हमारी टीमें दुश्मन के हमले का जवाब देने के लिए संतुलित होनी चाहिए।’ संघर्ष विराम को बनाए रखने की जिम्मेदारी पाकिस्तान पर डालते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि भारत तब तक इसका पालन करेगा, जब तक कि इसके विपरीत कुछ नहीं किया जाता। उन्होंने नियंत्रण रेखा पर तैनात भारतीय सेना के कमांडरों की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने ‘बढिय़ा काम’ किया।

भारत ने पाकिस्तान से अपने जवान का कटा सिर वापस मांगा
भारतीय सेना ने पाकिस्तान के साथ आज हुई सीमा बैठक में पुंछ घटना में अपने सैनिक का सिर काटे जाने की घटना पर कडा रोष जाहिर किया और यह सिर वापस किए जाने की मांग की. पुंछ सेक्टर के चकन दा बाग में ब्रिगेडियर स्तर पर हुई इस फ्लैग बैठक में भारतीय सेना ने संघर्ष विराम का बार बार उल्लंघन होने पर अपना कडा रूख पास्तिान को बताया. सूत्रों के अनुसार पाकिस्तानी पक्ष ने भी अपने वही आरोप दोहराए जो वह पिछले चार..पांच दिन से दोहराता रहा है सेना प्रमुख ने भी आज अपने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सिर काटने की घटना तमाम सैन्य तहजीब की मर्यादाओं को तोड चुकी है. भारत ने इस फ्लैग बैठक की मांग चार दिन पहले की थी1 करीब 35 मिनट चली इस बैठक में नियंत्रण रेखा पर तनाव समाप्त करने के उपायों पर बातचीत हुई. सेना के बडे अधिकारी ने स्वीकार किया कि जवान का कटा सिर वापस होने की कोई उम्मीद नहीं है क्योंकि यदि पाकिस्तानी सेना ऐसा करेगी तो इससे इस घटना में उसकी संलिप्तता भी तो भी जाहिर हो जाएगी.
शहीद के परिवार से मिलने कल जाएंगे
सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह नियंत्रण रेखा पर शहीद हुए सैनिक लांस नायक हेमराज के परिवार से मिलने के लिए मथुरा जिले में कल उनके पैतृक गांव जाएंगे

पाक ने खाली करवाए कई गांव, तोपखाना तैनात!
भारत-पाक के बीच फ्लैग मीटिंग के बावजूद एलओसी पर तनाव बढ़ता ही जा रहा है। खबर है कि पाकिस्तान ने पीओके में कई गांव खाली करवा लिए हैं। सूत्रों की मानें तो पाकिस्तान ने पीओके पर 626 तोपखाना रेजिमेंट को तैनात कर दिया है।

पाकिस्तान ने भारतीय सैनिक हेमराज का सिर ले जाने की बात से भी इनकार कर दिया।

शहीद हेमराज की पत्नी, मां ने अनशन तोड़ा
मथुरा में शहीद हेमराज के परिवार वालों ने अनशन तोड दिया है. सोमवार को हेमराज के गांव शेरगढ में सियासी नेताओं का जमघट लगा रहा. एक तरफ तो सूबे के मुखिया अखिलेश यादव शहीद हेमराज के परिवार से मिलकर उन्हें हर मुमकिन मदद की पेशकश की. साथ ही 25 लाख की आर्थिक सहायता का ऐलान किया. वहीं दूसरी हफ्ते भर बाद बीजेपी के नेताओं को भी शहीद की याद आई और पार्टी के आला नेता नितिन गडकरी, राजनाथ सिंह और सुषमा स्वराज हेमराज के गांव गए और शहीद के परिवार के सम्मान की लड़ाई को जायज ठहराया. अखिलेश यादव के कहने पर शहीद हेमराज की पत्??नी और मां ने जूस पीकर अनशन तोड़ा. शहीद हेमराज के घर पहुंचे अखिलेश यादव हेमराज के परिवार को 25 लाख के चेक दिए.

साथ ही उसके दोनों भाइयों को नौकरी देने के लिए उनके बायोडाटा भी लिए. इतना ही नहीं रक्षा राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा है कि केंद्र सरकार उन्हें 41 लाख और 5 लाख जम्मू कश्मीर सरकार भी देगी.

Related Posts: