नई दिल्ली, 19 अप्रैल. राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने स्कूलों में पढ़ाई के ऐसे तौर तरीके अपनाने को कहा जिससे बच्चों में तर्कपूर्ण ढंग से सोचने की क्षमता का विकास हो सके और इस टेक्नॉलजी से लैस दुनिया में कई विषयों का समाधान निकाला जा सके.

दिल्ली पब्लिक स्कूल आर के पुरम के 40 वर्ष पूरे होने पर एक समारोह को संबोधित करते हुए प्रतिभा पाटिल ने छात्रों से बुजुर्गों और गरीब लोगों को ध्यान रखना सीखने और जरूरतमंद लोगों के लिए कपड़े और दवाएं इकठ्ठा करने को कहा. उन्होंने कहा, स्कूल शिक्षा के आधार स्तम्भ है. इसलिए यह जरूरी है कि स्कूलों में बच्चों को अनुशासन और ईमानदारी के महत्व से अवगत कराया जाए.

Related Posts: