इलाहाबाद, 14 नवंबर. कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने नेहरू की जमीन फूलपुर झूंसी में आयोजित रैली से माया सरकार पर तीखे हमले कर कांग्रेस के चुनाव अभियान की शुरुआत की। राहुल ने युवाओं से माया सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।

भाषण के दौरान राहुल की तल्खी का अंदाज कुछ ऐसा था कि उन्होंने मंच से युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कब तक पंजाब जाकर मजदूरी करोगे … कब तक महाराष्ट्र जाकर भीख मांगोगे। माया सरकार में माफिया और अपराधी-फूलपुर रैली में माया सरकार राहुल के सीधे निशाने पर थी। अपने भाषण में राहुल ने माया सरकार पर तीखी टिप्पणियां कीं। राहुल ने कहा कि यूपी की माया सरकार में माफिया और अपराधी भरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि यूपी में कोई विकास नहीं है। आज यह प्रदेश पीछे जा रहा है। उन्होंने कहा कि यूपी के लिए दिया गया केंद्र के पैसे का कोई अता-पता नहीं है।

…इसलिए आता है मुझे गुस्सा- माया ने कुछ दिन पहले राहुल पर वार करते हुए कहा था कि उन्हें महंगाई पर गुस्सा क्यों नहीं आता है राहुल ने रैली में माया को ठीक इसी लहजे में जवाब दिया। राहुल ने कहा, गरीब जनता इस देश की ताकत है। आपकी सरकार गरीब के बारे में नहीं सोचती है। आज यूपी में करप्शन है, गुंडागर्दी है, आपके मंत्री जेल में हैं। मुझे इस पर गुस्सा आता है। किसानों पर गोलियां, सरकार चुप-राहुल ने अपने भाषण में किसानों का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि भट्टा पारसौल में किसानों को गोली मारी गई और महिलाओं पर अत्याचार किया गया। उन्होंने कहा कि किसानों से जमीन छीनी जा रही है, उन पर गोलियां दागी जा रही हैं, लेकिन माया सरकार चुप है। कांग्रेसियों ने झोंकी पूरी ताकत-राहुल की इस जनसभा को सफल बनाने के लिए कांग्रेसियों ने पूरी ताकत झोंक दी। राहुल के यहां पहुंचने से पहले यूपीसीसी प्रेजिडेंट डॉ. रीता बहुगुणा जोशी सहित सीनियर कांग्रेसी लीडरों ने मौके का मुआयना किया। इसी रैली के माध्यम से कांग्रेस उत्तर प्रदेश में चुनावी कैंपेन शुरू कर रही है। राहुल की जनसभा के लिए तैयार पोस्टरों में बीएसपी की तरह नया नारा जवाब हम देंगे दिया गया था।

रैली से पहले राहुल का विरोध

इससे पहले समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने राहुल की रैली में खलल डालने की पूरी कोशिश की। समाजवादी पार्टी से जुड़े युवकों ने सुरक्षा घेरे को तोडऩे की कोशिश की। युवक काला झंडा लहरा रहे थे। पुलिस ने युवकों की पिटाई की और बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इलाहाबाद में भी समाजवादी पार्टी के 50 से अधिक कार्यकर्ताओं ने इलाहाबाद रेलवे स्टेशन के पास राहुल गांधी का पुतला फूंका और रेलवे ट्रैफिक को रोकने की कोशिश की। पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया गया। इलाहाबाद के डीआईजी प्रकाश डी. के अनुसार, एसपी के समर्थकों को प्रयाग स्टेशन से हिरासत में लिया गया, जहां वे पटरियों पर बैठकर लखनऊ-इलाहाबाद मार्ग पर रेल यातायात बाधित करने की कोशिश कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों को पुलिस लाइन ले जाया गया।

मंत्री ने युवक की पिटाई की

केंद्रीय राज्य मंत्री जितिन प्रसाद ने शायद जीवन में कभी इतनी फुर्ती न दिखाई होगी जितनी सोमवार को राहुल को काला झंडा दिखाने वाले युवक की पिटाई में दिखाई। जितिन ने राहुल गांधी को काला झंडा दिखाने वाले युवक की जमकर पिटाई की। जितिन प्रसाद की फुर्ती देखने लायक थी। जैसे ही उन्होंने देखा कि कोई युवक काला झंडा लेकर राहुल के हेलीकॉप्टर की ओर बढ़ रहा है जितिन फौरन उस युवक की ओर लपके और उसकी लात घूंसो से उसे पीटा लेकिन किसी राज्यमंत्री की तरफ से हुई इस हरकत ने सबको चौंका दिया क्योंकि जब ये घटना हुई उस वक्त वहां बड़ी संख्या में पुलिस बल मौजूद था। अब प्रमोद तिवारी और जितिन को ऐसी क्या जरूरत आन पड़ी की उन्हें सारी मर्यादा छोड़ हाथ पैर चलाने पड़े।

भिखारी कहने पर बवाल

राहुल के भाषण पर राजनीतिक बवाल शुरू हो गया है। बीएसपी ने कहा कहा कि राहुल जुबान को लगाम दें।बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि  राहुल को यूपी के लोगों को अपमानित करने वाली बातें नहीं करनी चाहिए। यूपी-बिहार के लोग जहां भी चले जाएं, मेहनत की रोटी खाते हैं। वे भीख नहीं मांगते।

Related Posts: