भोपाल,5 अप्रैल,प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया ने आज कहा कि पूर्व सांसद गुफराने आजम के द्वारा हाल ही में मीडिया में पार्टी के संबंध में की गयी बयानबाजी और अन्य गतिविधियों से पार्टी हाईकमान को अवगत करा दिया गया है.

भूरिया ने यहां पत्रकारों से चर्चा में वरिष्ठ पार्टी नेता गुफराने आजम के खिलाफ उनकी पार्टी विरोधी बयानबाजी के चलते उनके खिलाफ अनुशासनहीनता की कार्रवाई करने संबंधी सवालों के जवाब में यह जानकारी दी.उन्होंने कहा कि इस संबंध में कोई भी निर्णय केंद्रीय नेतृत्व ही करेगा. प्रदेश अध्यक्ष ने आजम का नाम लिए बगैर कहा कि किसी एक व्यक्ति के कुछ कहने से पार्टी कमजोर नहीं हो जाती है.उन्होंने दावा किया कि अल्पसंख्यक पार्टी के साथ हैं और उनसे अनेक अल्पसंख्यक नेताओं ने मुलाकात करके यह बात कही है.

एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि नरसिंहपुर जिले के गोटेगांव के पास हाल ही में दो कांग्रेस कार्यकर्ताओं मनोज चौकसे और बलराम राजपूत की बेरहमी से हत्या के मामले में राज्य सरकार लीपापोती करने का प्रयास कर रही है.इसी वजह से इसकी जांच सीबीआई से कराने की बजाए राज्य पुलिस के अपराध अनुसंधान विभाग से जांच करायी जा रही है. भूरिया ने कहा कि इस मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के नेता प्रहलाद पटेल के परिजनों पर आरोप हैं और उन्हें बचाने के लिए भरसक प्रयास किए जा रहे हैं. यही वजह है कि पटेल के कहने पर ही इस मामले की जांच सीआईडी को सौंपी गयी है.उन्होंने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि वह स्वयं हाल में पीडितों के परिजनों से मिलकर आए हैं. उन्होंने कहा कि दोनों दिवंगत कांग्रेस नेताओं ने नरसिंहपुर जिले में रेत के अवैध खनन और कुछ ठेकों का विरोध किया था ् जिस पर उन्हें धमकियां दी गयीं.इसकी शिकायत मुख्यमंत्री और अन्य लोगों से लिखित में भी की गयी ् लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुयी और इसकी परिणिति दोनों की हत्या के रूप में सामने आयी.

Related Posts: