• विम्बलडन

लंदन, 4 जुलाई. दूसरी सीड बेलारूस की विक्टोरिया अजारेंका ने आस्ट्रिया की तामिरा पास्जेक को यहां 6-3, 7-6 से पराजित करते हुए लगातार दूसरी बार विंबलडन टेनिस चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में जगह बना ली जहां उनका मुकाबला चार बार की चैंपियन अमेरिका की सेरेना विलियम्स से होगा.

विश्व की दूसरी नंबर की खिलाड़ी अजारेंका ने क्वार्टरफाइनल में पास्जेक के खिलाफ पहला सेट मात्र 46 मिनट में जीत लिया लेकिन पहले राउंड के विश्व की पूर्व नंबर एक खिलाड़ी डेनमार्क की कैरोलीना वोज्नियाकी को हराने वाली पास्जेक दूसरा सेट टाईब्रेक में खींचने में सफल रहीं.
महिला एकल का दूसरा सेमीफाइनल तीसरी सीड पोलैंड की अग्निस्जका रदवांस्का और आठवीं सीड जर्मनी की एंजेलिक कर्बर के बीच खेला जाएगा. रदवांस्का ने वर्षा बाधित मैच में अपनी युगल साझीदार और 17वीं सीड रूस की मारिया किरिलेंको को कड़े मुकाबले में 7-5, 4-6, 7-5 से हराकर पहली बार विंबलडन के सेमीफाइनल में जगह बनायी.

रदवांस्का टेनिस के आधुनिक युग में किसी ग्रैंड स्लेम टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पोलैंड की पहली महिला खिलाड़ी हैं. रदवांस्का को इससे पहले वर्ष 2008 और 2009 में विंबलडन में क्वार्टफाइनल में हार का सामना करना पड़ा था. क्वार्टफाइनल में युगल की साझेदारों रदवांस्का और किरिलेंको के बीच जबर्दस्त संघर्ष देखने को मिला. रदवांस्का ने पहला सेट जीतकर बढ़त बनायी लेकिन किरिलेंको ने दूसरा सेट जीतकर बराबरी हासिल कर ली.
निर्णायक सेट में दोनों खिलाड़ी एक समय 4-4 की बराबरी पर थीं. लेकिन इसके बाद वर्षा के कारण मुकाबला को रोक देना पड़ा. करीब दो घंटे बाद मैच जब दोबारा शुरू हुआ तो रदवांस्का ने 15 मिनट में ही मैच निपटाते हुए सेमीफाइनल में अपना स्थान पक्का कर लिया.

पेस और भूपति की जोडिय़ां हुईं बाहर

लंदन ओलंपिक के लिए जोड़ी बनाने को लेकर एक दूसरे पर तीखे बाण छोडऩे वाले महेश भूपति और रोहन बोपन्ना तथा लिएंडर पेस का विम्बल्डन टेनिस चैंपियनशिप के पुरुष युगल में  सफर पराजय के साथ थम गया जिससे ओलंपिक के लिए भारत की उम्मीदों को गहरा झटका लगा है.  चौथी वरीयता प्राप्त पेस और रादेक स्तेपानेक की जोड़ी को इवान डोडिग और मोर्सलो मेला की जोड़ी ने वर्षा प्रभावित पांच सेटों के मुकाबले में हरा दिया जबकि भूपति और बोपन्ना की जोड़ी को मिखाइल एल्गिन और डेनिस इस्तोमिन की जोड़ी से लगातार सेटों में पराजय का मुंह देखना पड़ा.

पेस और स्तेपानेक ने अधूरा मैच आगे बढ़ाया लेकिन वे तीन घंटे 42 मिनट तक चले अपने संघर्ष में क्रोएशिया के डोडिग और ब्राजील के मेला से 6-4, 3-6, 4-6, 7-6, 6-8 से हार गए. वर्षा के कारण खेल रुका था तो उस समय पेस और स्तेपानेक अपने 15 वीं सीड प्रतिद्वंद्वी से 6-4, 3-6, 3-4 और 0-30 से पिछड़े हुए थे. अखिल भारतीय टेनिस संघ के खिलाफ बगावती तेवर अपनाकर ओलंपिक के लिए अपनी जोड़ी बनाने वाले भूपति और बोपन्ना ने अपना दूसरे दौर का मैच दो घंटे चार मिनट में 5-7, 6-7, 3-6 से गंवा दिया.

पेस स्तेपानेक ने मैच शुरू होते ही अपनी लय में खेलना शुरू कर दिया. चौथा सेट टाईब्रेक में खिंच गया. पेस स्तेपानेक ने 7-2 से टाईब्रेक जीतकर मैच में 2-2 की बराबरी कर ली. निर्णायक सेट में दोनों जोडिय़ों के बीच एक-एक अंक के लिए जबरदस्त संघर्ष हुआ. स्कोर जब 6-6 से बराबर था तब बारिश ने फिर्र खलल डाला. मैच लगभग दो घंटे तक रुका रहा. लेकिन इस ब्रेक ने पेस और स्तेपानेक की एकाग्रता तोड़ दी. वर्षा के कारण खेल रूकने के समय पेस स्तेपानेक 6-7 से पिछड़े हुए थे लेकिन खेल शुरू होने के बाद ही उनकी सर्विस टूट गई और वे 6-8 से सेट हारकर मैच गंवा बैठे.

पेस और स्तेपानेक का इस हार के साथ इस वर्ष दूसरा ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने का सपना टूट गया. उन्होंने जनवरी में आस्ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता था. पेस पुरुष युगल में तो हार गए लेकिन मिश्रित युगल में रूस की एलेना वेस्निना के साथ वह दूसरे दौर में उतरेंगे. भूपति के लिए पुरुष युगल की हार खासी निराशाजनक रही क्योंकि इससे पहले वह मिश्रित युगल में भी सानिया मिर्जा के साथ हारकर बाहर हो चुके थे. भूपति के लिए यह विम्बल्डन दोहरे झटके वाला रहा. इस ग्रैंड स्लैम से पहले बागी तेवर दिखाने का कहीं न कहीं उनके खेल पर असर पड़ा और पुरुष युगल तथा मिश्रित युगल दोनों में ही उनकी चुनौती कोई कारनामा किए बिना ही टूट गई.

Related Posts: